गुजरात : स्टैंप ड्यूटी कलेक्शन में वृद्धि इस बात का संकेत कि प्रॉपर्टी बाजार में अच्छी है चहल-पहल

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

2021-22 की पहली छमाही में कोविड -19 के प्रभाव के बावजूद, संपत्ति पंजीकरण 14.3 लाख था, जो पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 3 लाख अधिक

कोरोना महामारी के दौरान जहाँ दुनिया भर की अर्थव्यवस्था को गहरा झटका लगा है। बीते दो साल से सभी कारोबार में गिरावट देखी गई। हालांकि कोरोना के मामलों में कमी और प्रतिबंधों में छुट मिलने के बाद इनमें सुधार देखा जा रहा है। यही हाल कुछ एस्टेट क्षेत्र का भी रहा है। ऐसे में राज्य सरकार ने स्टाम्प ड्यूटी और संपत्ति दस्तावेजों के पंजीकरण से मिलने वाले राजस्व में पिछले वर्ष की तुलना में गिरावट के दो साल के रुझान को उलटते हुए 31 मार्च, 2022 को समाप्त वित्तीय वर्ष में स्टांप शुल्क में 43% की प्रभावशाली वृद्धि दर्ज की।
आपको बता दें कि 2020-21 की तुलना में 2021-22 में निष्पादित बिक्री कार्यों की संख्या में भी 25% की वृद्धि हुई है। वित्तीय वर्ष 2021-2022 में राज्य सरकार ने 10,606 करोड़ रुपये स्टांप शुल्क के रूप में एकत्र किए। 2018-19, 2019-20 और 2020-21 के लिए स्टांप शुल्क राजस्व क्रमशः 7,781 करोड़ रुपये, 7,701 करोड़ रुपये और 7,390 करोड़ रुपये था। 2020-21 की तुलना में 2021-22 में स्टांप ड्यूटी में 3,000 करोड़ रुपये से अधिक की वृद्धि हुई। 2021-22 की पहली छमाही में कोविड -19 के प्रभाव के बावजूद, संपत्ति पंजीकरण 14.3 लाख था, जो पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 3 लाख अधिक था। 2018-19, 2019-20 और 2020-21 में, गुजरात में संपत्ति पंजीकरण की संख्या क्रमशः 12.4 लाख, 12 लाख और 11.4 लाख थी। वित्तीय वर्ष 2021-22 में स्टांप शुल्क और पंजीकरण से सबसे अधिक राजस्व अहमदाबाद में 3,398 करोड़ रुपये, गांधीनगर में 2,513 करोड़ रुपये, सूरत से 1,212 करोड़ रुपये और राजकोट से 595 करोड़ रुपये में दर्ज किया गया। तेजी से शहरीकरण के कारण गांधीनगर ने दूसरी सबसे ज्यादा राजस्व संख्या दर्ज की।
टाइम्स ऑफ इंडिया के एक रिपोर्ट के अनुसार उद्योग से जुड़े लोगों ने कहा कि पिछले वित्तीय वर्ष में स्टांप ड्यूटी से राजस्व का रिकॉर्ड स्तर संकेत देता है कि रियल एस्टेट क्षेत्र महामारी के नकारात्मक प्रभाव से उबर चुका है। कन्फेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (क्रेडाई) के गुजरात चैप्टर के अध्यक्ष अजय पटेल ने कहा, "उच्च बिक्री के पीछे कई कारण हैं। कम आवास ऋण ब्याज दरों ने लोगों को बड़े पैमाने पर घर खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया है। लॉकडाउन के बाद, लोगों ने मांग को आगे बढ़ाते हुए बड़े घरों में निवेश करने की जरूरत महसूस की। भारत के एक विनिर्माण केंद्र गुजरात में अन्य राज्यों से प्रवासियों की आमद के बाद रियल एस्टेट बाजार भी बढ़ रहा है, और एनआरआई द्वारा कोविड की दूसरी लहर के बाद निवेश का पुनरुद्धार। इन सभी कारकों ने संयुक्त रूप से रियल एस्टेट क्षेत्र की मदद की है।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें