गुजरात : अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रंट में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया आठवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

साबरमती रिवरफ्रंट में आयोजित योग कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराड तथा राज्य के खेल मंत्री हर्ष संघवी उपस्थित रहे।

हमें योग को जानना भी है, जीना भी है, हमें योग को पाना भी है और अपनाना भी है : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

‘सूर्य की पहली किरण के साथ योग करती दुनिया के जरिए साकार हुआ ‘गार्जियन रिंग ऑफ योगा’ का अभिनव प्रयोग’
मंगलवार 21 जून को देशभर में आठवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व योग दिवस के कार्यक्रमों में कर्नाटक में मैसूर से वर्चुअल तरीके से उपस्थित रहे। गुजरात में राज्य स्तरीय कार्यक्रम अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रंट में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराड तथा राज्य के खेल मंत्री हर्ष संघवी की प्रेरक उपस्थित में आयोजित हुआ।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मैसूर से वर्चुअल तरीके से संबोधित करते हुए कहा कि योग आज हमारे लिए केवल ‘पार्ट ऑफ लाइफ’ अर्थात जीवन का हिस्सा ही नहीं है बल्कि अब यह ‘वे ऑफ लाइफ’ यानी जीवन जीने की पद्धति बन रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम सभी स्वस्थ एवं शांतिपूर्ण विश्व को योग के माध्यम से गति देंगे। ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्या हो या अंतरराष्ट्रीय विवाद हो, योग के जरिए सामूहिक चेतना से सभी समस्याओं का हल निकालकर विश्व शांति स्थापित की जा सकती है। योग समस्या का समाधानकर्ता बन सकता है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि हम कितने भी तनावपूर्ण माहौल में क्यों न हों, कुछ मिनट का ध्यान एवं योग हमारी उत्पादकता को बढ़ा देता है। उन्होंने कहा कि हमें योग को जानना भी है, जीना भी है, हमें योग को पाना भी है और अपनाना भी है। हमें योग को विकसित और विस्तारित करना है।
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस-2022 की थीम ‘मानवता के लिए योग’ का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार ‘गार्जियन रिंग ऑफ योगा’ का अभिनव प्रयोग आज पूरी दुनिया में हो रहा है। दुनिया के विभिन्न देशों में सूर्योदय के साथ, सूर्य की गति के साथ, लोग योग कर रहे हैं। जैसे-जैसे सूर्य आगे बढ़ रहा है, उसकी पहली किरण के साथ अलग-अलग देशों में लोग साथ जुड़ते जा रहे हैं। पूरी पृथ्वी के चारों ओर योग की रिंग बन रही है। यही है ‘गार्जियन रिंग ऑफ योग।’प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार सरकार के स्टार्टअप योग चैलेंज का उल्लेख करते हुए युवाओं को योग में नए आइडिया लाने और नवीन प्रयोग करने का आह्वान किया।
स्वास्थ्य का अमृत काल बनेगा आजादी का अमृत महोत्सव, योग हरेक के जीवन में फैलाएगा अमृत : मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने इस अवसर पर कहा कि इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में देश ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मना रहा है, ऐसे में गुजरात में 75 आइकॉनिक स्थानों पर योग प्रेमी योग दिवस मना रहे हैं। उन्होंने शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव स्वास्थ्य का अमृत काल बने और योग प्रत्येक के जीवन में अमृत फैलाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष हम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को ‘मानवता के लिए योग’ की थीम के साथ मना रहे हैं।  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सभी देशों, धर्मों, जाति-पाति के लोगों को योगाभ्यास के लिए प्रेरित किया है और योग-प्राणायाम के साथ स्वस्थ जीवन शैली स्वीकार करने का आह्वान भी किया है। इतना ही नहीं, आज योग के माध्यम से दुनिया के अनेक लोग एक-दूसरे के साथ जुड़ रहे हैं। 
साबरमती रिवरफ्रंट में आयोजित योग कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगों ने शामिल होकर योग किया
उन्होंने आगे कहा कि नरेन्द्र मोदी ने योग को दुनिया के कोने-कोने तक पहुंचाने का भगीरथ कार्य किया है। उन्होंने समूची दुनिया को योग का उचित महत्व समझाया है। इस तरह, नरेन्द्र मोदी के ‘सर्वजन सुखाय’ के प्रयास सफल हुए हैं। आज विश्व के 130 से अधिक देश योगाभ्यास के जरिए भारतीय संस्कृति की गहनता का अनुभव कर रहे हैं। योग का महत्व समझाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही थी, तब इस संकट काल में स्वास्थ्य के प्रति लोगों की जाग्रति बढ़ी थी, विशेषकर योग-प्राणायाम युक्त जीवन शैली कोरोना जैसे रोग से लड़ने के लिए अत्यंत उपयोगी है, इस बात को अब ज्यादा से ज्यादा लोगों की स्वीकृति मिल रही है।
गुजरात राज्य योग बोर्ड की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री की प्रेरणा से दो वर्ष पूर्व गुजरात राज्य योग बोर्ड की स्थापना की गई थी। इस बोर्ड के मार्फत गुजरात में 1 लाख से अधिक योग ट्रेनर तैयार किए गए हैं और ये ट्रेनर अन्य लोगों को योग सिखा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सभी नागरिकों को योग को जीवन का हिस्सा बनाने तथा योग को अपनाकर रोग मुक्त रहने की अपील भी की।
योग हमारे देश की अमानत है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया है इस अमानत को विश्व स्तर पर ले जाने का भगीरथ कार्यः  डॉ. भागवत किशनराव कराड
केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराड ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ मना रहा है, तब यह हमारे लिए यह गौरव की बात है कि 75 आइकॉनिक स्थलों पर योग दिवस मनाया जा रहा है। श्री कराड ने अहमदाबाद सहित गुजरात में बड़े पैमाने पर योग दिवस मनाने के लिए राज्य योग बोर्ड, आयुष मंत्रालय और राज्य सरकार को बधाई दी। उन्होंने कहा कि योग हमारी प्राकृतिक संस्कृति है। योग हमारे देश की अमानत है और इस अमानत को विश्वस्तर पर ले जाने का भगीरथ कार्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया है।
राज्य के इतिहास में पहली बार योग दिवस के उत्सव में शामिल हुए सवा करोड़ लोगः मंत्री  हर्ष संघवी
गुजरात के गृह तथा युवक सेवा एवं सांस्कृतिक गतिविधि मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि राज्य के इतिहास में पहली बार योग दिवस के उत्सव में सवा करोड़ लोग शरीक हुए हैं। यह बताता है कि गुजराती लोग योग के लिए कितने जाग्रत हैं। उन्होंने कहा कि आज देश ही नहीं अपितु दुनिया के ज्यादातर देशों में विश्व योग दिवस मनाया जा रहा है, इसका श्रेय यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जाता है। भारतीय संस्कृति की अनमोल भेंट योग का लाभ पूरी दुनिया को उपलब्ध कराने तथा स्वस्थ समाज के निर्माण के उद्देश्य के साथ नरेन्द्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा था। उन्होंने कहा कि गुजरात योग बोर्ड की स्थापना के बाद गांव-गांव में योग की शिक्षा पहुंची है और योगासन को राज्य में एक खेल के रूप में मान्यता मिली है। पिछले खेल महाकुंभ में 78,000 युवाओं ने योगासन में हिस्सा लिया था।
गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव के भाग के रूप में आज गुजरात के 75 आइकॉनिक स्थानों पर भी योग दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री की प्रेरणा से शुरू हुए ‘फिट इंडिया’ अभियान से स्वस्थ भारत का निर्माण होगा। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के तहत इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय योग दिवस राज्य में कुल 75 आइकॉनिक स्थलों पर भी मनाया जा रहा है। मोढेरा सूर्य मंदिर और अंबाजी मंदिर सहित 17 धार्मिक स्थलों, दादा हरि नी वाव (बावड़ी) और दांडी स्मारक सहित 18 ऐतिहासिक स्थलों, कच्छ के रण सहित 22 पर्यटन स्थलों, मानगढ़ हिल और सापुतारा सहित 17 प्राकृतिक स्थलों पर इस दिन सामूहिक योग साधना के कार्यक्रम आयोजित किए गए। राज्य सरकार ने इस वर्ष योग को पर्यटन के साथ जोड़कर राज्य के पर्यटन को भी गति देने का आयोजन किया था। राज्य में जिला स्तर, तहसील तथा नगर पालिका स्तर तथा स्कूल, आईटीआई, स्वास्थ्य केंद्रों, पुलिस स्टेशनों तथा जेलों में योग दिवस मनाया गया।
‘मानवता के लिए योग’ थीम के साथ मनाया गया इस वर्ष का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अहमदाबाद के शांतिग्राम अदाणी, कच्छ के सफेद रण, मेहसाणा के धरोई बांध और नर्मदा के स्टैच्यू ऑफ यूनिटी जैसे आइकॉनिक स्थलों पर जिला स्तरीय योग दिवस मनाया गया। राज्य के 45,000 प्राथमिक स्कूलों के 84,65,000 छात्रों एवं 3,23,000 शिक्षकों, 12,500 माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक स्कूलों के 28,43,000 छात्रों एवं 89,000 शिक्षकों, 2600 महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालों के 16,14,000 छात्रों तथा 60,000 अध्यापकों सहित राज्य की 287 आईटीआई के कुल 28,700 छात्रों ने योग दिवस में हिस्सा लिया। इसके साथ ही राज्य के 1477 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और 6500 उप केंद्रों पर कुल 12,70,400 लोगों ने योग किया। इस अवसर पर अहमदाबाद के महापौर किरीटभाई परमार, उप महापौर श्रीमती गीताबेन पटेल, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव के. कैलाशनाथन, मुख्य सचिव पंकज कुमार, खेल विभाग के प्रधान सचिव अश्विनी कुमार, मनपा आयुक्त लोचन सहेरा, सांसद एवं विधायकगण तथा पार्षदगणों सहित अहमदाबाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, मनपा स्थायी समिति के अध्यक्ष हितेश बारोट, गुजरात राज्य योग बोर्ड के चेयरमैन शिशुपाल तथा बड़ी तादाद में योग प्रेमी उपस्थित रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें