गुजरात : मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल ने भारी बारिश से प्रभावित जामनगर जिले का दौरा किया

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को भारी बारिश से प्रभावित बाढग्रस्त जामनगर जिले के असरग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया

जामनगर जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में नुकसान का सर्वे कर सहायता के लिए जामनगर जिले के अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री ने की बैठक

बाढ़ प्रभावितों के साथ मजबूती से खड़ी है समूची सरकारः मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री  भूपेंद्रभाई पटेल ने मंगलवार को भारी बारिश से प्रभावित बाढग्रस्त जामनगर जिले के असरग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया। उन्होंने प्रभावितों की सहायता के लिए उनके साथ संवाद कर यह दिलासा दिया कि पूरी सरकार मुसीबत की इस घड़ी में मजबूती से उनके साथ खड़ी है। 
मुख्यमंत्री ने जामनगर जिले के धुंवाव गांव, महाप्रभुजी बैठक क्षेत्र तथा लालपुर रोड पर स्थित आशीर्वाद सोसायटी का दौरा कर प्रभावितों को हुए नुकसान का आंकलन कर जामनगर कलक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में जिले के अधिकारियों के साथ बैठक की। 
बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल ने कहा कि समूची सरकार प्रभावितों के साथ खड़ी है। सरकार और स्थानीय प्रशासन की ओर से लोगों को बचाने के लिए की गई त्वरित कार्रवाई की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि जामनगर जिले के 447 गांव भारी वर्षा से प्रभावित हुए हैं। जिले की पूरी टीम को इस चुनौतीपूर्ण कार्य को सरलता से करने के लिए बधाई देते हुए श्री पटेल ने कहा कि नुकसान के सर्वे के लिए स्थानीय और अन्य जिलों से भी टीमें बुलाने के निर्देश दिए हैं। सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ ‘सही व्यक्ति छूट न जाए और गलत व्यक्ति ले न जाए’ इस बात का ध्यान रखते हुए कि सर्वे का काम शुरू करने के लिए मार्गदर्शन दिया है। 
संकट की इस घड़ी में जनता के साथ खड़े रहने का दायित्व निभाने की सीख देते हुए मुख्यमंत्री ने जामनगर जिले में हो रहे कार्यों का ब्यौरा देते हुए कहा कि जिले में कुल 4760 लोगों को सुरक्षित तरीके से स्थानांतरित किया गया है। 144 लोगों को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) वायु सेना के मार्फत रेस्क्यू कर बचाया गया है। फिलहाल सर्वे के लिए 46 टीमें कार्यरत हैं। सौराष्ट्र में मौसम की 80 फीसदी बारिश हो चुकी है। जिले के 84 गांवों में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई थी। उस संदर्भ में आज शाम तक सौ फीसदी गांवों में बिजली आपूर्ति बहाल करने के निर्देश दिए हैं। मृत मवेशियों के निस्तारण और सफाई के लिए आवश्यकता पड़ने पर बाहर से टीम बुलाने के निर्देश दिए हैं तथा सड़कों से अवरोधों को हटाने का काम जारी है। 
मुख्यमंत्री के साथ  धर्मेंद्रसिंह जाडेजा, सांसद श्रीमती पूनमबेन माडम, विधायक  राघवजी पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष धरमशी चनियारा, महापौर श्रीमती बीनाबेन कोठारी, मुख्य सचिव पंकज कुमार, जिला कलक्टर डॉ. सौरभ पारघी, आयुक्त विजय खराड़ी और जिला विकास अधिकारी मिहीर पटेल सहित कई अधिकारी एवं पदाधिकारी मौजूद थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें