गुजरात : वडनगर रेलवे स्टेशन पर जहां पीएम मोदी ने बचपन में बेची थी चाय, उस पटरी को अब संजोकर रखा जा रहा!

वडनगर आने वाले मुसाफिर और सैलानी इस जगह को अवश्य देखना चाहेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि के साथ बचपन में गुजरात के मेहसाणा जिले के वड़नगर के रेलवे स्टेशन पर पिता की चाय की पटरी पर चाय बेचने वाली कहानी बड़ी दृढ़ता के साथ जुड़ गई है। रेलवे स्टेशन पर उसी चाय की पटरी को अब हैरिटेज का सा स्थान दिए जाने की दिशा में कदम उठाए गए हैं। जी हां, प्रधानमंत्री मोदी बचपन में जिस टी स्टॉल पर चाय बेचा करते थे, उससे बिल्कुल मिलते-जुलते नए टी स्टॉल को तैयार किया गया है।
भावनगर के वड़नगर की यात्रा करने वाले सैलानी जब उस स्थान पर पहुंचेंगे तब वहां उसी पुराने टी स्टॉल को देख सकेंगे। जानकारी के मुताबिक उस टी-स्टॉल को नरेंद्र मोदी के स्टॉल का ही नंबर T-13 दिया गया है। 
वर्ष 2021 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल रूप से वडनगर रेलवे स्टेशन को पुनः कार्यान्वित किया था। उसके बाद से अब यहां लोगों की आवाजाही दिखने लगी है। स्टेशन पर आने वाले लोग उस स्थान को भी ढूंढते हैं जो पीएम मोदी से जुड़ा हुआ है।
जैसी की कहानी लोकप्रिय हुई है प्रधानमंत्री मोदी बचपन में जब स्कूल में अभ्यास करने जाते थे, तब मध्यावकाश के दौरान वे स्टेशन पर आकर अपने पिता की चाय की पटरी पर मदद किया करते थे। जब ट्रेन आती तो वह चाय की केतली लेकर मुसाफिरों को चाय देने पहुंचते थे।
उसी स्टॉल की प्रतिकृति को टफन ग्लास से संजोकर स्थायी रूप से स्टेशन पर उसी स्थान पर स्थापित किया गया है। आप का भी कभी वड़नगर जाना हो तो इस प्रतिकृति को देखने अवश्य जाएं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें