गिर-सोमनाथ : मोबाइल पर गेम की लत पड़ी बहुत भारी, एक नाबालिक ने गवाई जान

प्रतिकारात्मक तस्वीर (Photo: pixabay..com)

ऊना तालुका के साजननगर में रहने वाले एक 16 वर्षीय नाबालिग ने मोबाइल गेम के चक्कर में की आत्महत्या

मोबाइल और इंटरनेट तकनीक ने हमारे कई काम आसान कर दिए हैं। खासकर कोरोना काल में बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। हालाँकि इस तकनीक के कुछ गंभीर परिणाम भी हैं। कोरोना काल में ऑनलाइन पढ़ाई के चलते बच्चों ने मोबाइल का इस्तेमाल बहुत कर रहे है। नतीजतन बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ ऑनलाइन गेम्स में भी दिलचस्पी बढ़ रही है। ऑनलाइन गेम के पीछे के युवा इतने पागल हो जाते हैं कि वे इसके लिए कुछ भी करने से नहीं हिचकिचाते। ऐसा ही एक मामला गिर-सोमनाथ के ऊना से सामने आया है। जहाँ एक नाबालिग ने मोबाइल गेम की लत में मौत को गले लिया है।
इस संबंध में प्राप्त विवरण के अनुसार, गिर-सोमनाथ जिले के ऊना तालुका के साजननगर में रहने वाले एक 16 वर्षीय नाबालिग ने मोबाइल गेम के चक्कर में आकर आत्महत्या कर ली है। हैरानी की बात ये है कि मृत बच्चे को महिला के भेष भूषा में पाया गया। ऐसे में एक लड़के का एक महिला के वेश में अपने घर के कमरे में मौत को लेकर काफी विवाद है। तरुण नाम का यह युवक कक्षा 11 विज्ञान में पढ़ रहा था और पढ़ाने में माहिर था। परिवार को शक है कि किशोरी ने मोबाइल गेम के स्तर का अनुसरण करते हुए लेडीज ड्रेस पहनकर अपनी जिंदगी खत्म कर ली है। हालांकि नाबालिग की मौत का असली कारण पुलिस की गहन जांच के बाद ही सामने आएगा।
बता दें कि खेल खेलना सेहत के लिए अच्छा होता है, लेकिन आज के आधुनिक युग में खेल का रूप मौलिक रूप से बदल गया है। ज्यादातर ऑनलाइन मोबाइल गेम्स का बच्चों पर दबदबा है। जिसने किशोरों को मानसिक रूप से कमजोर बना दिया है। अगर माता-पिता समय पर नहीं जागे तो उनके बच्चे की जान भी जा सकती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें