सामूहिक दुष्कर्म मामला : 20 दिन के बाद पीडि़ता की साइकिल मिली

(Photo Credit : sandesh)

रेलवे एलसीबी को गैंगरेप मामले में मिली अहम कड़ी

नवसारी की युवती के गैंगरेप और आत्महत्या के घटना में आखिरकार 20 दिन बाद रेलवे एलसीबी ने पीडि़ता की साइकिल खोजने में सफलता मिली है। पुलिस ने सिक्युरिटी कर्मचारी की संदेहास्पद गतिविधि पर 30 घंटे निगरानी रखने के बाद उसे रंगेहाथ पकड़ा। चर्चित घटना में प्रथम कड़ी  पुलिस के हाथ लगने से अब अन्य सबूत मिल सकते है और मामले से पर्दा उठ सकता है।
पीडि़त युवती की साइकिल की जांच पुलिस कर रही है। ओपी रोड पर स्थित पुनितनगर के पास रहने वाले महेश राठवा एम डी सिक्युरिटी कंपनी में नौकरी करता है और कंपनी ने बनाए सर्वन्ट क्वाटर्स में रहता है। घटना स्थल से एक किलोमीटर दूर एटलान्टिक 2 में महेश सिक्युरिटी गार्ड के तौरपर नौकरी करता है। घटना की जांच कर रही रेलवे पुलिस ने महेश राठवा पर शंका जाने पर उसकी जांच की गई। मंगलवार को उसे जांच के लिए बुलाने के बाद जाने दिया गया। इसके बाद रेलवे एलसीबी ने उस पर निगरानी रखी। पुनितनगर के पास गेल कंपनी के पीछे रोड पर स्थित एक बंद बंगले के पिछे युवती की साइकिल महेश राठवा ने छुपायी थी। साइकिल के दोनों टायर निकाल लिए थे। इस साइकिल को आसोपालव के पन्ने से छुपा दिया था।
रेलवे पुलिस ने सिक्योरिटी गार्ड पर निगरानी रखने के बाद बुधवार को उसकी सख्त पूछताछ करने पर बंद बंगले के पीछे पीडि़ता की साइकिल मिली थी। उसका एक टायर महेश के घर से मिला था। वहीं दूसरा टायर कबाड़ वाले को बेच दिया था। पुलिस इसकी जांच कर रही है। महेश ने रेलवे एलसीबी को बताया कि पीडि़ता पर गैंगरेप के बाद दूसरे दिन साइकिल वेक्सीन मैदान निकट रोड पर पड़ी होने से उठा लेने की बात कहीं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें