सूरत जिले में कोरोना मरीजों के लिए स्वास्थ सुविधा बढ़ाने के लिए कांग्रेस का ज्ञापन

सूरत जिले में कोरोना मरीजों की सहि जानकारी देने और स्वास्थ सेवा बढ़ाने के लिए जिला कांग्रेस कमिटी ने कलेक्टर और जिला विकास अधिकारी को ज्ञापन दिया

सूरत जिले के ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना मरीजों तथा मृतकों की सही जानकारी देने के साथ स्वास्थ सेवाए बढ़ाने के लिए कांग्रेस ने कलेक्टर को ज्ञापन दिया।

कोरोना संक्रमितो तथा मृतकों की सही जानकारी दे, ऑक्सिजन, वेन्टिलेटर, रेमडेसिविर तथा वेक्सिन की सुविधा बढ़ाए
सूरत जिला कांग्रेस ने कलेक्टर तथा जिला विकास अधिकारी को ज्ञापन देकर कोरोना मरीजों तथा मृतकों के सही आंकडे घोषित करने, मरीजों को लिए ऑक्सिजन, वेन्टिलेर, रेमडेसिविर की सुविधा बढ़ाने तथा कोरोना वेक्सिन का पर्याप्त डोज आवंटित करने की मांग की गई। 
सूरत जिला कांग्रेस अग्रणी एवं पुर्व केबिनेट मंत्री डॉ.तुषारभाई चौधरी, जिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं मांडवी विधायक आनंदभाई चौधरी तथा सूरत जिला पुर्व विपक्षी नेता एवं किसान अग्रणी दर्शन नायक ने शनिवार को सूरत जिला कलेक्टर तथा जिला विकास अधिकारी को ज्ञापन देकर कोरोना मरीजों के लिए स्वास्थ सुविधा तथा कोरोनोा वेक्सिन की सुविधा बढ़ाने की मांग की गई। जिले में हररोज 57 पीएससी में लगभग 50 आरटीपीसीआर तथा रेपिड टेस्ट किए जाते है जिसमें से 20 केस पोजिटिव आ रहे है। एक पीएससी के कार्यक्षेत्र में 15 गांव का विस्तार आता है। जिले के 9 रेफरल अस्पताल में हररोज 70 आरटीपीसीआर और रेपिड टेस्ट हो रहे है जिसके सामने 25 कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट आ रहा है। निजि लेब और अस्पतालों में सक्रमित मरीजों की संख्या अलग है जो सरकारी रिकोर्ड पर दिखाई नही जाती। सरकार की ओर हररोज जारी कोरोना आंकडो में संक्रमित मरीजों की संख्या छुपाई जाती है। गांवों में कोरोना के गंभीर मरीजों की संख्या में वृध्दि के साथ मृतकों का आंकडा भी बढ़ रहा है। गुजरात स्थापना दिवस पर सत्य के साथ रहकर स्थानिय स्वास्थ विभाग को कोविड-19 वायरस से संक्रमितों तथा कोविड से मौत के सही आंकडे सार्वजनिक करने चाहिए जिससे मरीजों को योग्य और समय रहते चिकित्सा प्रदान की जाए। 
सरकार द्वारा प्रेस कोन्फरेन्स में कहा गया की निजि अस्पतालों में 64 वेन्टिलेटर आवंटित किए है। सरकार द्वारा आवंटित वेन्टिलेटर के बावजुद मरीजों से किराया वसुला जा रहा है। सरकार द्वारा जिन अस्पतालों में वेन्टिलेटर आवंटित किए गए है उन अस्पतालों को 10 प्रतिशत बेड गांवों के गंभीर कोविड मरीजों के लिए आरक्षित रखे जाए। 
मांडवी तहसिल में पेरामेडिकल स्टाफ और ऑक्सिजन सुविधा सहित 200 बेड तथा 50 वेन्टिलेटर की सुविधायुक्त अस्पताल तत्काल बनाकर शुरू कि जाए। सरकारी और निजि अस्पताल में बेड नही मिलने वाले होम आईसोलेशन के मरीजों को प्रशासन तत्काल ऑक्सिजन की व्यवस्था करे। रेमडेसिविर इंजेक्शन अस्पतालों की मांग के अनुसार नही मिल रहे, मरीजों की जरूरत के अनुसार रेमडेसिविर आवंटन की व्यवस्था की जाए। 
जिल के सभी पीएससी, सीएससी, आंगणवाडी, शिक्षकों तथा सभी कोरोना वोरियर्स फिल्ड में काम करनेवाले कर्मचारीओं को मास्क, हेन्डग्लोज तथा सेनेटाईजर कीट की निःशुल्क दिए जाए तांकी वह कोरोना संक्रमण से बच सके और योग्य कार्यवाही कर पाए। 
जिले के सभी 9 तहसिलों में वेक्सीनेशन की कार्यवाही बहुत ही धीमी गति से चल रही है। जिले में जल्द से जल्द वेक्सिन आवंटित करके अभियान के तहत लोगों को टीका लगाया जाए तांकी संक्रमण को रोका जाए। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें