अमेरिका : सड़कों पर न कोई ट्राफिक लाइट, न साइन बोर्ड फिर भी इस एक आईडिया से निकला दुर्घटना और प्रदुषण का सटीक उपाय

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

अमेरिका के कार्मेल के एक आईडिया से न सिर्फ रुकी दुर्घटनाएं बल्कि साल भर में करीब 76 हजार लीटर पेट्रोल की हो रह बचत

क्या यह संभव है कि किसी शहर की सड़कों पर एक भी ट्रैफिक लाइट और 'स्टॉप' साइनबोर्ड न हो और फिर भी उन सड़कों पर दुर्घटनाएं न के बराबर न हों और प्रदूषण बहुत कम हो? सुनने में असंभव लगने वाली ये बात अमेरिका के इंडिया के कार्मेल में संभव हो पाया है। लगभग दस लाख की आबादी वाले कार्मेल में 140 से अधिक सर्पिल या गोल चक्कर वाली सड़कें हैं। साथ ही ऐसी दर्जनों अन्य सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। अमेरिका की सबसे घुमावदार सड़कें यहीं हैं।
इस बारे में वहां के मेयर जिम बर्नार्ड कहते हैं कि इन सड़कों का उद्देश्य सुरक्षा है, पारंपरिक फोर-लेन सड़कों की तुलना में सर्पिल सड़कें और सर्कल से सड़क दुर्घटना और मृत्यु में कमी होती हैं। शहर के एक पूर्व इंजीनियर माइक मैकब्राइड के अनुसार, लाल ट्रैफिक लाइट नहीं होने के कारण वाहनों को रुकना नहीं पड़ता है जिससे प्रदूषण भी कम होता है।
द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार एक सर्वे के मुताबिक इससे साल भर में करीब 76 हजार लीटर पेट्रोल की बचत होती है। मिसिसिपी विश्वविद्यालय के शोध के अनुसार, सर्पिल सड़कें भी कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन को 56% तक कम करती हैं। इसके अलावा ट्रैफिक लाइट के लिए बिजली की जरूरत नहीं होती है। अमेरिकन इंश्योरेंस इंस्टीट्यूट ऑफ हाईवे सेफ्टी के अनुसार, कार्मेल में दुर्घटनाओं में 64 राउंड में 50% की गिरावट आई है। डॉगबोन में ऐसी दुर्घटनाएं बहुत कम होती हैं। बाकी शहरों में 20.8 की तुलना में 2020 में, कार्मेल में प्रति 1 मिलियन लोगों पर औसत यातायात मृत्यु 1.9 थी।
जानकारी के अनुसार 1980 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में अध्ययन के दौरान मेयर बर्नार्ड को पहली बार गोल चक्कर सड़कों के लाभ के बारे में पता चला और फिर 1995 में कार्मेल के मेयर बनने के बाद उस दिशा में काम करना शुरू कर दिया। अपने कार्यकाल में पहले 10 वर्षों में 50 और दूसरे दशक में उन्होंने कुछ और ऐसी सड़कों का निर्माण किया। यू.एस. संघीय राजमार्ग प्रशासन ने भी इस योजना को स्वीकार कर लिया है कि ऐसी सड़कें प्रदूषण को कम करती हैं। फ्लोरिडा के सरसोटा ने कार्मेल की सफलता से सीखते हुए डेढ़ दर्जन सड़कें बनाई हैं। अपनी सफलता का जश्न मनाने के लिए कार्मेल में राष्ट्रीय गोल चक्कर सप्ताह आयोजित किया जा रहा है। इस विषय पर एक पुस्तक भी प्रकाशित हुई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें