भारी बारिश के बाद एनडीआरएफ ने गुजरात में 20 टीमों को किया तैनात

(Photo Credit : IANS)

मोरबी, गांधी नगर, जामनगर, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, बोटाद बयाद, भावनगर, वलसाड, नवसारी, सूरत और वडोदरा में तैनात किया गया

नई दिल्ली, 14 सितम्बर (आईएएनएस)| गुजरात में भीषण बारिश ने कई जगह बाढ़ का रूप धारण कर लिया है। भारी दिक्कतों को देखते हुए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने राज्य के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ से निपटने के लिए पूरे गुजरात में 20 टीमों को तैनात किया है। एनडीआरएफ के अधिकारियों के मुताबिक टीमों को मोरबी, गांधी नगर, जामनगर, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, बोटाद बयाद, भावनगर, वलसाड, नवसारी, सूरत और वडोदरा में तैनात किया गया है।
अधिकारियों ने यह भी कहा कि पंजाब से पांच टीमों को एयरलिफ्ट किया गया है और टीमें भी तैयार हैं। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने अगले 24 घंटों में बाढ़ जैसी स्थिति के साथ भारी बारिश की भविष्यवाणी की है। भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल ने भी गुजरात में अपनी बचाव टीमों को तैनात किया है। जामनगर नागरिक प्रशासन के अनुरोध पर भारतीय तटरक्षक बल ने 6 जेमिनी नावों और 35 कर्मियों को वडीनार से जामनगर के लिए एक चिकित्सा दल सहित भेजा गया। नौसेना ने सोमवार शाम (13 सितंबर) को आईएनएस सरदार पटेल से राजकोट के लिए सहायता गियर के साथ नौसेना गोताखोरों से युक्त मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) टीम भेजी और यह राजकोट में जिला अधिकारियों को रिपोर्ट करेगी और जब भी आवश्यकता होगी बचाव प्रयासों में शामिल होगी।
भारतीय नौसेना ने कहा कि 6 और टीमें प्रभावित इलाकों में चल रहे नागरिक बचाव प्रयासों को बढ़ाने के लिए तैयार हैं। इसी तरह, जामनगर में आईएनएस वलसुरा से कई बचाव दल तैनात किए गए हैं, ताकि शहर के बारिश प्रभावित और जलमग्न क्षेत्रों के विभिन्न हिस्सों में फंसे लोगों की सहायता की जा सके। भारतीय नौसेना के प्रवक्ता ने कहा, "जेमिनी बोट, लाइफ जैकेट, प्राथमिक चिकित्सा किट और अन्य आवश्यक गियर से लैस, टीमों ने बुजुर्गों और महिलाओं सहित बड़ी संख्या में लोगों को बचाया और उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है। नौसेना की टीमों ने फंसे हुए नागरिकों को भोजन के पैकेट भी उपलब्ध कराए गये हैं।"
उन्होंने आगे कहा कि नौसेना के वरिष्ठ अधिकारी बाढ़ राहत गतिविधियों में किसी भी तरह की मदद की पेशकश करने के लिए नागरिक प्रशासन के साथ लगातार संपर्क में हैं। प्रवक्ता ने कहा कि और बचाव दलों को सूचना पर भेजने के लिए तैयार रखा गया है। गुजरात के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने शीर्ष अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और निर्देश दिया कि यदि आवश्यक हो तो एनडीआरएफ की और टीमों को तैनात किया जाए। जामनगर और राजकोट जिलों में अत्यधिक भारी बारिश के कारण नदियों का जलस्तर बढ़ गया और निचले इलाकों में पानी भर गया। अगले तीन दिनों तक बारिश जारी रहने की संभावना के बीच आईएमडी के पूवार्नुमान के बीच जिला अधिकारियों ने कई लोगों को निकाला है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें