शादीं की आमंत्रण पत्रिका में ही 108 आमंत्रको के नाम, बुलाने है सिर्फ 50

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

गाइडलाइन की सीमा में तो घर के लोग भी नहीं हो पा रहे पूरे, परिवार वालों को सता रही है अजीब विडंबना

कोरोना के कारण पूरे सामाजिक ताने-बाने बदल गए हैं। देशभर में कोरोना की लहर तेजी से बढ़ रही है। गुजरात में तो शादी ब्याह के प्रसंगों में भी कम लोगों की उपस्थित रहने की सूचना दी गई है। इसके कारण घर के लोगों को ही इनकार करना पड़े ऐसी नौबत आई है। 
गुजरात के बॉर्डर क्षेत्रों में यदि किसी के घर में शादी होती है तो शादी के आमंत्रण कार्ड में ही निमंत्रक के तौर पर 100 से अधिक लोगों के नाम छपे रहते हैं और फिर 50 लोगों को आमंत्रण देना है। अब आप ही सोचिए कि यह किस तरह संभव हो सकेगा। राज्य सरकार की ओर से शादी ब्याह के प्रसंगों में 50 लोगों के ही इकट्ठा होने की छूट दी गई है। जिसके चलते शादी ब्याह के आयोजनों में भी असर पड़ा है। इतना ही नहीं कई गांव में तो शादी के आमंत्रण पत्रिका में ही 100 से अधिक लोगों के नाम छपे रहते हैं। मतलब की इतने लोग तो शादी ब्याह में उपस्थित ही रहेंगे दूसरी ओर सरकार ने यह फरमान दे दिया है। सिर्फ 50 लोग उपस्थित रहेंगे अब आप ही सोचिए कि निमंत्रक 100 और बाराती 50, यह कैसे संभव हो सकता है।
गुजरात के एक गांव की आमंत्रण पत्रिका में दर्शनाभिलाषी के तौर पर 37, स्नेहाधीन के तौर पर 53 और छोटे बच्चे 17 मिलाकर 108 लोगों के नाम छपे हैं। अब आमंत्रक भी चिंतित है कि बारात में किसे बुलाए और किसे नही? सरकार के नियम के अनुसार पचास से अधिक लोगो बुलाना गलत है लेकिन यहा तो पंरपरा ही इस तरह की है? हालाकि अब सभी लोग असमंजसम में है आगे क्या किया जा सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें