राजकोट : शहर की मुख्य सड़कों पर ट्रैफिक जाम को दूर करने के लिए रोड सेफ्टी काउंसिल की हुई बैठक 

बैठक में राजकोट शहर के पुलिस आयुक्त राजू भार्गव ने विभिन्न विभागों द्वारा किए गए कार्यों का मूल्यांकन किया

राजकोट : शहर की मुख्य सड़कों पर ट्रैफिक जाम को दूर करने के लिए रोड सेफ्टी काउंसिल की हुई बैठक 

गुजरात सड़क सुरक्षा प्राधिकरण के तहत दुर्घटना रोकथाम और यातायात नियंत्रण के उद्देश्य से कार्यरत राजकोट सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में राजकोट शहर के पुलिस आयुक्त राजू भार्गव ने विभिन्न विभागों द्वारा किए गए कार्यों का मूल्यांकन किया। इसके अलावा आवश्यक संकेत बोर्ड लगाकर गंभीर दुर्घटनाओं की संख्या को कम करने के लिए सड़क अभियांत्रिकी के तहत चौराहों और सड़कों पर प्रकाश व्यवस्था के साथ ही उन्होंने यातायात नियमों के संदर्भ में जन जागरूकता पर जोर दिया। साथ ही संबंधित विभाग के अधिकारियों को इस मामले में सघन कार्रवाई करने के निर्देश दिए। 

ट्रैफिक को प्रभावित करने वाली लॉरियों को हटाया जाएगा

इस बैठक में राष्ट्रीय राजमार्गों, आरएंडबी को ब्लैक स्पॉट थर्मोप्लास्टिक रोड मार्किंग, ज़ेबरा मार्किंग, डायवर्जन, गो स्लो, बम्प फॉरवर्ड, और पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था जैसे संकेतकों के बारे में बताया गया। नगर निगम सहित विभाग द्वारा किए गए कार्यों की प्रस्तुति दी गई। राजकोट के शहरी क्षेत्र के विस्तार के साथ-साथ अधिक ट्रैफिक सिग्नल सर्वेक्षण, यातायात लागू करने वालों के खिलाफ अभियान, सड़कों पर सर्कल को फिर से डिजाइन करना, लावारिश वाहनों को हटाना, यातायात जागरूकता कार्यक्रम को बढ़ाने सहित के मुद्दे पर पुलिस आयुक्त द्वारा मार्गदर्शन दिया गया था।

सबसे ज्यादा हादसे कुवाड़वा जोन और आजीडेम जोन में

उल्लेखनीय है कि गंभीर हादसों के संबंध में प्रस्तुत डाटा सर्वे के अनुसार कुवाड़वा जोन व आजीबांध जोन में हादसों की संख्या सर्वाधिक है। दोपहर 3 से 5, शाम 6 से 8 और देर रात के बीच दुर्घटनाओं की संख्या सबसे अधिक है। जिसके अनुसरण में इस अवसर पर यातायात नियमन और जन जागरूकता बढ़ाने पर भी चर्चा की गई।

सड़क सुरक्षा समिति के कार्यकारी मुख्य प्रवर्तन अधिकारी जे.वी. शाह ने हिट एंड रन मामलों में नए नियम के मुताबिक सेलेथियम फंड में बढञोतरी कर गंभीर दुर्घटना में 50 हजार और मौत होने पर रु. 2 लाख मुआवजा मिलने की बात कही। इसके अलावा जेवी शाह ने बताया कि घायलों को अस्पताल पहुंचाने वालों को गुड समरिटन अवॉर्ड भी दिया जाता है।

बैठक में आरटीओ, आरएमसी, एनएचएआई, पीजीवीसीएल के अधिकारी मौजूद थे

डीसीपी ट्रैफिक पूजा यादव ने कहा कि इस बैठक में संयुक्त प्रवर्तन दल द्वारा पुल निर्माण के आसपास यातायात में बाधा डालने वाले वाहनों और लारी धारकों को हटाने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। बैठक में पुलिस उपायुक्त सुधीर देसाई, एसीपी ट्रैफिक जेबी गढ़वी, आरटीओ, नगर निगम, राजमार्ग प्राधिकरण, पीजीवीसीएल, एल एंड टी, एनएचआईए आर एंड बी विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। 

Tags: Rajkot

Related Posts