‘गजवा-ए-हिंद’ मामले में एनआईए ने महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात में छापेमारी की

2047 तक इस्लामिक राज्य स्थापित करने की कथित साजिश के संबंध में कई आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए

‘गजवा-ए-हिंद’ मामले में एनआईए ने महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात में छापेमारी की

ग़ज़वा-ए-हिंद मामले के संबंध में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) वर्तमान में तीन भारतीय राज्यों, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात में सात अलग-अलग स्थानों पर छापेमारी कर रही है। ये छापेमारी ग़ज़वा-ए-हिंद मामले के संबंध में की जा रही है, जिसमें 2047 तक भारत को एक इस्लामिक राज्य में बदलने की कथित योजना शामिल है।

इन जगहों पर हुई छापेमारी

जानकारी के लिए बता दें कि एनआईए ने आज महाराष्ट्र के नागपुर और गुजरात में तीन-तीन और मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक स्थान पर छापेमारी की है। समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुतातबिक एनआईए ने छापे के दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए हैं। हालांकि एनआईए ने अभी तक इस मामले पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है।

बिहार के फुलवारीशरीफ में दर्ज किया था गजवा-ए-हिंद का मामला 

गौरतलब है कि पिछले साल 22 जुलाई को एनआईए ने बिहार के फुलवारीशरीफ में गजवा-ए-हिंद का मामला दर्ज किया था। फुलवारीशरीफ केस की जांच के दौरान एनआईए ने कहा था कि आरोपी मरगुब अहमद दानिश एक खट्टरपंथी व्यक्ति है। वह अपने व्हाट्सएप ग्रुप "गजवा-ए-हिंद" के जरिए कई विदेशी संस्थाओं के संपर्क में था। एनआईए की छापेमारी के दौरान देश विरोधी गतिविधियों में शामिल संदिग्धों के आवासीय परिसर और दूसरे ठिकानों को खंगाला गया। एनआईए ने कहा था, "इस ग्रुप में कश्मीर में हो रहे आतंकवादी घटनाओं को युवाओं के बीच महिमामंडित किया जा रहा था। एक अन्य ग्रुप में हिंसा के जरिए भारत पर विजय पाने का प्रचार कर रहा था।"