सूरत : सोनी के यहां ट्रायल के लिये रखा कारीगर दूसरे ही दिन लाखों का सोना पैन्ट में छिपा चलता बना!

सूरत : सोनी के यहां ट्रायल के लिये रखा कारीगर दूसरे ही दिन लाखों का सोना पैन्ट में छिपा चलता बना!

आरोपी मासूम फाइलिंग के लिए मिला 4.50 लाख मूल्य का 91.710 ग्राम सोना पेंट के मोरी में छिपा कर भाग गया

सूरत के महिधरपुरा धियाशेरी में नौकरी के लिए सोनी द्वारा काम पर रखे गए एक बंगाली कारीगर ने काम के दूसरे ही दिन फाइलिंग के लिए मिला 4.50 लाख मूल्य का 91.710 ग्राम सोना पेंट के मोरी में छिपा दिया और भाग गया। महिधरपुरा पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच शुरू कर दी है।
 

क्या है पूरा मामला?

 
पुलिस सूत्रों को मिली जानकारी के अनुसार, बनासकांठा पालनपुर के जोदनापुरा गांव के रहने वाले 45 वर्षीय मुकेशभाई ईश्वरभाई पटेल सूरत में एलपी सवानी रोड मधुवन सर्कल के पास विमलनाथ रेजीडेंसी ए/402 में रहते हैं और महिधरपुरा घिया स्ट्रीट कल्पतरु बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर शक्ति ज्वैलर्स के नाम से सोने के जेवर बनाने का काम करते हैं। वहां काम करने वाले 20 कारीगरों में गोल्ड फाइलिंग विभाग के दो कारीगर एक महीने के लिए घर गए थे और उन्हें कारीगरों की जरूरत थी। इसकी जानकारी होने पर मासूम अंसार शेख (बशीरहाट गांव, 24 परगना, पश्चिम बंगाल) ने प्रबंधक महेंद्रभाई पटेल को संदेश भेजकर काम की मांग की।  जब महेंद्रभाई ने उन्हें दिवाली के बाद आने का मैसेज किया तो मासूम ने काम मांगा इसलिए महेंद्रभाई ने मुकेशभाई से बात की और आठ दिन पहले उन्होंने मासूम को ट्रायल के लिए बुलाया और 18 हजार की सैलरी तय की। 
 

सीसीटीवी में सामने आई वारदात की घटना

 
काम मिलने पर मासूम ने यात्रा करने और थके होने की बात कही और अगले दिन दोपहर में आया , मासूम को फाइलिंग के लिए 4.50 लाख मूल्य का 91.710 ग्राम सोना दिया गया। सोने के फाइलिंग में दो दिन लगने से सोना उसके पास ही था। हालांकि, अगले दोपहर वह अन्य कारीगरों के साथ नाश्ता करने के बाद वापस नहीं लौटा और उसकी मेज पर सोना भी  नहीं था। सीसीटीवी कैमरा चेक करने पर पता चला कि नाश्ता करने के 10 मिनट पहले उसने सोने को पेंट के छेद में छिपा लिया था। मोबाइल पर कॉल करने पर मोबाइल बंद होने से मुकेशभाई ने कल महिधरपुरा थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामला दर्ज़ कर सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच शुरू कर दी है।
Tags: Surat