सूरत : 58 हजार का बीमा पकाने के चक्कर में निवृत्त शिक्षक ने 28 लाख गंवाए

सूरत : 58 हजार का बीमा पकाने के चक्कर में निवृत्त शिक्षक ने 28 लाख गंवाए

एक साल में ठगों ने लूट 28 लाख रुपये, अलग अलग नाम और अलग अलग काम के बहाने ठगे पैसे

पुलिस आये दिन विभिन्न तरीकों से नागरिकों को ठगों और उनके द्वारा दिए जाने वाले किसी भी तरह के लालच में ना आने की सलाह देती है। इसके बाद भी हम आये दिनों ऐसे ठगी के मामले सुनते रहते है। अब ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहाँ ठगों के चक्कर में पड़कर पॉलिसी के 58 हजार लेने की लालच में पुणे के वृद्ध को 1 साल में 28 लाख का नुकसान हुआ है।
 

जानिए क्या है मामला

 
मामले में मिली जानकारी के अनुसार पुणे की रंग-अवधूत सोसायटी में रहने वाले बिलिमोरा के रहने वाले सुरेंद्रकुमार बलदेवदास मिस्त्री (उम्र 65) 1-12-20 को रिलायंस की निप्पॉन कंपनी द्वारा पॉलिसी पर ब्याज के साथ वित्तीय लाभ का लालच देते हुए पॉलिसी बंद होने पर भरे हुए 29 हजार के बदले 58 हजार मिलने की बात कही गयी। ठग ने 10 प्रतिशत लेने की बात कही और  शुरू में 5867 रुपये मांगे। फिर बाद में विभिन्न शुल्क के नाम पर22200, 20000, 70398 व 1.17 लाख वसूले गए। 4 महीने बाद मनीष देसाई नाम के एक ठग ने बताया कि वह लोकपाल चेन्नई से बात कर रहा था और कहा कि पॉलिसी एजेंट गणेश बदल गया है और पॉलिसी के लाभ के लिए आपके खाते में 9.35 लाख का चेक जमा कर दिया गया है। लेकिन, वृद्ध ने चेक किया और चेक बाउंस हो गया। इसलिए जब उसने मनीष को फोन किया तो उसने कहा कि चेक बाउंस हो गया है क्योंकि उसने दिल्ली की स्टेट फीस नहीं भरी और उसने 1.36 लाख और मांग लिए।
 

इसके बाद भी मांगे पैसे

 
इसके बाद बात यहीं नहीं रुकती। उसके बाद इस गिरोह के एक अन्य ठग ने अपनी पहचान ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के एमडी मुकेश जैन के रूप में बताई और वरिष्ठ नागरिकों का लाभ लेने के लिए 3.50 लाख जमा करने को कहा। इसपर वृद्ध ने कोटक महिंद्रा बैंक में 25 हजार, आईसीआईसीआई बैंक में 25 हजार और उज्जैन स्मॉल बैंक में 3.25 लाख जमा किए।
 

एक साल में ठग लिए २८ लाख रूपये

 
मुकेश ने फिर बैंक खाता लिंकिंग प्रक्रिया के लिए आईसीआईसीआई खाते से 9.80 लाख और 5 लाख जमा किए। फिर 2.38 लाख 89 हजार का भुगतान यह कहते हुए किया गया कि आयकर देना है। इसके अलावा, बैंकों को रिश्वत देने के नाम पर 1.50 लाख और जब्त किए गए। 1 साल में गिरोह ने 28 लाख रुपये ठग लिए थे। 
 

अंत में पुलिस के पास पहुंचे

 
अंत मेंधोखाधड़ी के शिकार हुए सुरेंद्रभाई ने साइबर अपराध की शिकायत दर्ज कराई और पुलिस ने गणेश मुखर्जी (बीमा लोकपाल-सांता क्रूज़), मनीष देसाई (बीमा लोकपाल, चेन्नई), मुकेश जैन (ओरिएंटल बैंक-एमडी) और विभिन्न बैंकों के कर्मचारी सहित 10 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
Tags: Fraud Surat