देश के 5.37 लाख गांवों में श्रीरामोत्सव मनाएगा विश्व हिंदू परिषद

(Photo : IANS)

मंदिर निर्माण के साथ-साथ अब देश भर में रामत्व का प्रसार अभियान भी चलेगा

नई दिल्ली, 12 अप्रैल (आईएएनएस) | विश्व हिंदू परिषद ने 13 से 27 अप्रैल तक देश भर में श्रीरामोत्सव मनाने की तैयारी की है। हिंदू नववर्ष पर मंगलवार से शुरू होकर यह अभियान 27 अप्रैल को हनुमान जयंती तक चलेगा। गांव-गांव जाकर विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता राम मंदिर निर्माण की प्रगति से जनता को अवगत कराएंगे। कोरोना काल में विश्व हिंदू परिषद का यह बड़ा जनसंपर्क अभियान होने जा रहा है। संगठन का कहना है कि जहां कोरोना का खतरा ज्यादा है, वहां ऑनलाइन कार्यक्रम होंगे, अन्य स्थानों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कार्यक्रमों का आयोजन होगा।

दरअसल, अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान के दौरान विश्व हिंदू परिषद ने 5.37 लाख गांवों के 12 करोड़ 73 लाख परिवारों के 65 करोड़ से अधिक लोगों से संपर्क किया था। अब संगठन फिर से इतने गांवों में पहुंचने की तैयारी में है। पिछली बार जहां, कार्यकतार्ओं ने मंदिर निर्माण के लिए लोगों से निधि संग्रह किया था, अब मंदिर निर्माण की प्रगति के बारे में लोगों को जानकारी दी जाएगी। बताया जाएगा कि मंदिर निर्माण कार्य कहां तक पहुंचा है और कब तक मंदिर का निर्माण पूरा होगा। विश्व हिंदू परिषद ने कार्यक्रमों का बड़ा खाका तैयार किया है। गांव-गांव जाकर विहिप के कार्यकर्ता गोष्ठियां करेंगे और प्रभातफेरी भी निकालेंगे। संकीर्तन यात्रा भी निकलेगी।

विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने आईएएनएस को बताया, "हिंदू नववर्ष से हनुमान जयंती के बीच देश भर में श्रीरामोत्सव का आयोजन कोविड 19 प्रोटोकॉल की सावधानियों के बीच होगा। जिन गांवों में कार्यकर्ता मंदिर निधि समर्पण के लिए पहुंचे थे, वहां-वहां आयोजन होगा। छुआछूत जैसी सामाजिक कुरीति के खात्मे के लिए गोष्ठियों में चर्चा होगी। इस आयोजन का उद्देश्य अब गांव-गांव भगवान राम के आदशरें का प्रसार करना है। मंदिर निर्माण के साथ-साथ अब देश भर में रामत्व का प्रसार अभियान भी चलेगा।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें