विकट हालात : 8 शवों का एक ही चिता पर किया गया अंतिम संस्कार

(Photo Credit : ndtv.in)

महाराष्ट्र में गंभीर है कोरोना की स्थिति, अंतिम संस्कार के लिए कम पड़ रही है जगह

महाराष्ट्र में कोरोना की हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही है। राज्य के अधिकांश शहरों में  संक्रमित मामलों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। स्थिति ऐसी हो गई है कि कुछ शहरों में एक ही चिता पर कई लोगों को जलाया जा रहा है। महाराष्ट्र के बीड जिले में भी कोरोना की हालत गंभीर है। जिले के अंबाजोगाई में मंगलवार को एक साथ 8 लोगों का अंतिम संस्कार किया गया। जिनमें से एक महिला शेष 7 पुरुष थे। उनमें से प्रत्येक की उम्र 60 वर्ष से अधिक थी। आपको बता दें अंबाजोगाई तालुका संक्रमण का केंद्र बन चुका है, जहां पिछले कुछ दिनों में लगभग 500 लोग संक्रमित पाए गए हैं। यहां कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटों में  बीड जिले में 741 संक्रमित लोग पाए गए हैं जबकि 8 लोगों की मौत हुई हैं।
ऐसे में श्मशान में जगह की कमी के कारण  एक ही चिता पर कई लोगों के एक साथ जलाया गया था। एक अधिकारी ने कहा कि अंबाजोगाई शहर के श्मशान में इन लोगों के अंतिम संस्कार का स्थानीय लोगों द्वारा विरोध किया गया था, इसलिए स्थानीय अधिकारियों को अंतिम संस्कार के लिए एक और जगह ढूंढनी पड़ी, फिलहाल तो जगह मिलना दुर्लभ ही है। तालुका नगर परिषद के अध्यक्ष अशोक सेबल ने कहा, "हमारे पास जो श्मशान है वहां इन लोगों के अंतिम संस्कार को लेकर स्थानीय लोगों ने विरोध किया। इसके बाद हमें शहर से 2 किमी दूर एक और जगह मिली। लेकिन इस नए अस्थायी अंतिम संस्कार घर में भी जगह की कमी है।
ईसके आगे अधिकारी ने बताया "हमने मंगलवार को एक बड़ी चिता बनाई और सभी आठों शवों को एक साथ जला दिया।इस बड़ी चिता पर सभी लाशों कक एक दूसरे से कुछ दूरी पर रखा गया था। गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच,  महाराष्ट्र में जितने भी हॉटस्पॉट हैं, वहां आईसीयू बेड और ऑक्सीजन की भारी कमी देखी जा रही है। पुणे के एक अस्पताल के वेटिंग एरिया में 7 ऑक्सीजन वाले बेड लगाए गए है ताकि प्रतीक्षा में बैठे मरीजों को अन्य भेजने के बजाय उन्हें ऑक्सीजन देकर बचाया जा सकें। चिंताजनक बात ये है कि मुंबई में 92 फीसदी आईसीयू और 93 फीसदी वेंटिलेटर बेड फुल हैं। कई जिलों में कोरोना की दवा के लिए लंबी लाइनें देखी गईं। कई जगहों पर स्टॉक खत्म होने से लोग परेशान हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें