महामारी के समय में इस तरह बढ़ाए बच्चों की इम्यूनिटी पावर

प्रतिकात्मक तस्वीर

कोरोना के समय में कमजोर रोगप्रतिरोधक शक्ति के कारण बच्चे हो सकते है संक्रमण का शिकार

देश भर में फैली हुई महामारी के बीच लोगों की बुरी हालत हो गई है। ऐसे में तीसरे चरण के दौरान कोरोना संक्रमण में बच्चों को सबसे अधिक खतरा होने की बात कही गई है। ऐसे में बच्चों की रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाना काफी जरूरी हो गया है। रोगप्रतिरोधक शक्ति कमजोर होने के कारण बच्चे जल्दी बीमार हो जाते है। ऐसे में उन्हें आसानी से संक्रमित होने का खतरा हो सकता है। ऐसे में यदि उनकी इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए कुछ चीजों पर ध्यान देना काफी जरूरी है। 
नवजातों को स्तानपान कराएं
बालकों में इम्युनिटी शक्ति का सबसे बड़ा स्त्रोत है माँ का दूध। नवजात बालकों के लिए माँ का दूध अमृत समान होता है। यह बच्चों को संक्रमण तथा अन्य बीमारियों से लड़ने के लिए सबसे अधिक तैयार करता है। बालक के जन्म के बाद कम से कम 2-3 महीनों तक उन्हें नवजात बालक को दूध पिलाना चाहिए।
बच्चे को ग्रीन वेजिटेबल खिलाएं 
बच्चों की रोगप्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के लिए उन्हें हरी सब्जियाँ और फलों का सेवन करवाना चाहिए। बच्चों को खाने में गाजर, बीन्स, संतरे, स्ट्रोबेरी जैसी चीजें खिलानी चाहिए। इन सभी में विटामिन तथा कैरोटीन होते है। जो की बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायता करता है। ऐसे में उन्हें अधिक से अधिक फलों और सब्जियों का इस्तेमाल करना चाहिए।
बच्चे को भरपूर नींद लेने दें 
बच्चों में नींद की कमी होने पर इम्युनिटी तो कमजोर होती ही साथ ही आपका बच्चा बीमारी का अधिक शिकार होने लगता है। जिससे कि नवजात में स्वास्थ्य मुश्किलें बढ़ जाती है। हालाँकि, नवजात बच्चों को एक दिन में 18 घंटे की नींद तो वही छोटे बच्चों को 12 से 13 घंटे की नींद की आवश्यकता पड़ती है।
संक्रमण के खतरों से बचाएँ 
अपने बच्चे को बीमारियों से बचाने के लिए संक्रमण वाले जीवाणु से हमेशा बचा कर रखें। आप बच्चों को कीटाणुओं से बचाने के लिए बचपन से ही हाथ धोने के बाद ही हाथों को होठों के पास लाने और कुछ खाने के बारे में बताएं। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि परिवार के अन्य सदस्यों को संक्रमित, टूथब्रश आदि के साथ-साथ बच्चों के तौलिया रुमाल और खिलौनों की सफाई हमेशा समय-समय पर करते रहें।



इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें