पाँच से 11 साल के बच्चे के लिए भी सुरक्षित है फ़ाईजर का टीका, क्लीनिकल ट्रायल के परिणाम से हुआ खुलासा

भारत सरकार के साथ वैक्सीन की डील को लेकर आखिरी चरण में चल रही है बातचीत

देश भर में कोरोना महामारी से निपटने के लिए वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है। कोरोना की संभवित तीसरी लहर के पहले देश के अधिक से अधिक लोगों को कोरोना का टीका लगा दिया जाये इसी उद्देश्य से सरकार तथा स्थानीय तंत्र अपने प्रयास में जुटा हुआ है। संभवित तीसरी लहर में बच्चों के अधिक संक्रमित होने की अफवाओं के बीच एक अच्छी खबर सामने आ रही है। 
न्यूज एजंसी एएफ़पी के हवाले से आई खबर के अनुसार, फाइजर कंपनी का टीका पाँच से 11 साल के बच्चों के लिए पूरी तरह सुरक्षित पाया गया है। क्लीनिकल ट्रायल के परिणामों के आधार पर हुए इस खुलासे में मालूम पड़ा है कि फाइजर के टीके के कारण पाँच से 11 साल के बच्चों पर टीके का कोई भी दुष्प्रभाव नहीं होता है। 
बता दें कि भारत सरकार और फाइजर बायोएनटेक के बीच वैक्सीन के सौदे को लेकर बातचीत हो चुकी है। कंपनी ने अपने एक बयान में कहा कि भारत के साथ उनकी वैक्सीन को लेकर बातचीत चल रही है और जल्द ही बातचीत के नतीजे सामने होंगे। यदि यह बातचीत कामयाब हो जाती है तो भारत के टीकाकरण अभियान में और भी तेजी आ सकती है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें