देश के मशहूर कार्टूनिस्ट पद्मश्री नारायण देबनाथ हुये पंचतत्व में विलीन

(Photo Credit : gujarati.oneindia.com)

ब्लडप्रेशर बढ़ जाने के कारण अस्पताल में थे भर्ती

देश के मशहूर कार्टूनिस्ट नारायण देबनाथ का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार सुबह कोलकाता के एक अस्पताल में निधन हो गया। नारायण देबनाथ कॉमिक पात्रों बंटुल द ग्रेट, हांडा-भोंडा और नॉनटे-फोंटे के निर्माता थे। देबनाथ का 97 साल की उम्र में निधन हो गया है। अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित देबनाथ ने सुबह 10.15 बजे अंतिम सांस ली। उन्हें 24 दिसंबर को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वे वेंटिलेटर पर थे। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके निधन पर दुख जताया है।
सीएम ममता बनर्जी ने दुख व्यक्त करते हुए कहा, "यह बहुत दुखद है कि एक प्रसिद्ध लेखक, कार्टूनिस्ट और बच्चों की दुनिया के लिए कुछ अमर चरित्रों के निर्माता नारायण देबनाथ का निधन हो गया है। उन्होंने बंटुल द ग्रेट, हांडा-बोंडा, नॉन-फोंटे जैसे कार्टून बनाए, जो दशकों से हमारे दिलों में बसे हुए हैं। बनर्जी ने लिखा, "हमें उन्हें 2013 में बंगाल में सर्वोच्च पुरस्कार बंग भूषण से सम्मानित किए होने का गर्व है।
उनका निधन निश्चित रूप से साहित्यिक रचनात्मकता और कॉमिक्स की दुनिया के लिए एक अपर्याप्त क्षति है। उनके परिवार, दोस्तों, पाठकों और अनगिनत प्रशंसकों और अनुयायियों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है। सोमवार को उनकी तबीयत में थोड़ा सुधार हुआ था, लेकिन मंगलवार की सुबह उनकी तबीयत बिगड़ने लगी। वयोवृद्ध लेखक और कलाकार देबनाथ का बीपी बढ़ गया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें