टाटा नैनो : रतन टाटा ने साझा की इस 'आम आदमी की कार' के बनने की कहानी

रतन टाटा ने बताया क्यों उनके मन में आई नैनों बनाने की बात, रतन टाटा ने खुद इसके निर्माण की पूरी कहानी अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर साझा की

रतन टाटा को हाल ही में एक इलेक्ट्रिक टाटा नैनो तोहफे के रूप में मिली थी, लेकिन अब टाटा नैनो एक बार फिर चर्चा में है, क्योंकि रतन टाटा ने खुद इसके निर्माण की पूरी कहानी अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर साझा की है। टाटा समूह के मानद अध्यक्ष रतन टाटा ने नैनो के लॉन्च की एक तस्वीर साझा करते हुए एक खूबसूरत पोस्ट लिखी है। रतन टाटा ने अपने पोस्ट में लिखा, "मैं लगातार भारतीय परिवारों को स्कूटर पर यात्रा करते देखता हूं, जहां ज्यादातर एक लड़का मां और पिता के बीच सैंडविच की तरह बैठा रहता है।"
वे अक्सर फिसलन भरी सड़कों पर भी इसी तरह रहते थे। यहाँ मुख्य कारण था जिसने मुझे इस तरह की कार (नैनो) बनाने के लिए प्रेरित किया और मुझे प्रेरित किया। उन्होंने आगे लिखा कि स्कूल ऑफ आर्किटेक्चर में पढ़ने का फायदा उन्हें मिला। मैं नए प्रकार के डिजाइनों पर काम करने की कोशिश कर सकता था। विचार शुरू में दोपहिया को सुरक्षित बनाने का था। इसके लिए एक डिज़ाइन बनाया जो एक चार पहिया था, लेकिन उसमें कोई दरवाजा और खिड़की नहीं थी, लेकिन अंत में मैंने फैसला किया कि यह एक कार होगी।
नैनो कारें हमेशा से हम सभी के लिए बनी हैं। टाटा नैनो, जिसे लखटकिया कार या आम आदमी की कार के रूप में जाना जाता है, को कंपनी ने 10 फरवरी, 2008 को लॉन्च किया था। इसे उस समय के बीएस-3 मानक के अनुसार डिजाइन किया गया था। इसमें 624cc का 2-सिलेंडर पेट्रोल इंजन और 4-स्पीड गियरबॉक्स भी था। कंपनी ने इसे 3 वेरिएंट में लॉन्च किया है। कंपनी ने इसकी शुरुआती कीमत 1 लाख रुपये रखी थी।
टाटा नैनो की आखिरी यूनिट का उत्पादन साल 2019 में किया गया था। यह (नैनो) रतन टाटा का ड्रीम प्रोजेक्ट था, लेकिन इसने अपने लक्ष्य को हासिल नहीं किया। इसके बनने और बिगड़ने की यात्रा में कई मील के पत्थर थे, जिसमें सिंगूर, बंगाल में एक कारखाने को गुजरात के साणंद में स्थानांतरित करने की कहानी और नैनो में आग की बढ़ती घटनाओं की कहानी शामिल है। इतना ही नहीं, कई विशेषज्ञों का मानना है कि टाटा संस से साइरस मिस्त्री के जाने में नैनो का भी हाथ था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें