सर्वे : पश्चिम देशों में पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं लेती है ज्यादा तलाक, जानिए क्या है भारत में इसका आंकड़ा

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

संयुक्त राज्य अमेरिका में तलाक के 70 से 90% मामले महिलाओं द्वारा दायर किए जाते हैं

पश्चिमी समाज में पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक तलाक ले रही है। संयुक्त राज्य अमेरिका में तलाक के 70 से 90% मामले महिलाओं द्वारा दायर किए जाते हैं। ब्रिटेन में तलाक के 62 फीसदी मामले महिलाओं द्वारा दायर किए जाते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि इसका कारण पश्चिमी देशों में तलाक की प्रक्रिया का आसान होना है।
आपको बता दें कि डॉ. हेइडी कैर के अनुसार, महिलाओं की आर्थिक स्वतंत्रता के साथ-साथ वित्तीय समझ के कारण विवाह में संघर्ष बढ़ रहे हैं। यदि कोई महिला नौकरी करती है, तो उसके लिए आर्थिक रूप से अपमानजनक रिश्ते में रहना आवश्यक नहीं है, उसी कारण से महिलाओं के तलाक के लिए आवेदन करने की संभावना अधिक होती है। वहीं मनोवैज्ञानिक डॉ. गिल्जा फोर्ट मार्टिनेज के अनुसार, पुरुषों में भावनात्मक समझ की कमी के कारण महिलाएं अक्सर अकेलेपन का अनुभव करती हैं। महिलाओं में उनकी उच्च भावनात्मक बुद्धिमत्ता के कारण यह समझ होने की अधिक संभावना होती है, जो उन्हें अपने पति से अलग होने या तलाक का फैसला करने के लिए प्रेरित कर सकती है। जानकारों के मुताबिक जहां 39 फीसदी पुरुषों को तलाक लेने का पछतावा है। दूसरी ओर, 27% महिलाएं तलाक के बाद पछताती हैं।
वहीं भारत की बात करें तो राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में केवल 0.3% महिलाएं तलाकशुदा हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, इसका कारण महिलाओं में आर्थिक स्वतंत्रता की कमी, कम पारिवारिक सहयोग और देश में तलाक के प्रति समाज का रवैया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें