सूरत : दशहरे से पहले व्यापारियों ने फाफड़ा का स्टॉक करना शुरू कर दिया, जानें वजह

(Photo Credit : Gujaratsamachar)

सूरत में क्षेत्र के हिसाब से फाफड़ा की मांग

सूरती हर त्यौहार बड़े धूमधाम मनाते है। दशहरा का त्यौहार सूरतियों के लिए बहुत महत्व रखता है। धार्मिक महत्व के साथ-साथ खाने-पीने का भी महत्व है।  इस दिन सूरती हजारों किलो फाफडा खा जाते है। फाफड़ा बनाने के लिए बेसन और अजमो मुख्य सामग्री हैं लेकिन फाफड़ा बनाने की शैली सूरत में हर व्यापारी की अलग-अलग होती है। सूरत में गोल राउंड वाले फाफड़ा के साथ हींग डाले काठियावाडी फाफड़ा की डिमांड है।  सूरती फाफड़ा के साथ हींग डाले ककाठियावाड़ी फाफड़ा और राजस्थानी स्टाइल में फाफड़ा बेचा जाता है।  लोग अपने टेस्ट के हिसाब से फाफड़ा खाकर दशहरा मनाते है।
सूरत में दशहरे के दिन रावण दहन का जितना महत्व है उतना ही सूरतियों के फाफड़ा खाने का।  सूरत में हर रविवार को कई दुकानों पर फाफड़ा की लाइन नजर आती है। लेकिन दशहरे के दिन सूरत में फाफड़ा बेचने वाली दुकानों के बाहर मेला सा लगता है. चूंकि अगले शुक्रवार को दशहरा का त्योहार है, सूरत में फाफड़ा बेचने वाले व्यापारियों ने फाफड़ा का स्टॉक करना शुरू कर दिया है।
सूरत हो या भारत कई पर भी फाफड़ा बनाने के लिए बेसन, अजमो और तेल एक ही सामग्री हैं, लेकिन व्यापारी फाफड़ा की मांग के अनुसार अलग-अलग शैलियों में क्षेत्र के अनुसार फाफड़ा बना रहे हैं। सूरती ज्यादातर सूरती फाफड़ा पसंद करते हैं जो गोल राउंड में बदल जाता है। इस फाफड़ा के कारीगर भी खास होते हैं। इस तरह के फाफड़ा के अंदर चटनी डालकर आसानी से खाया जा सकता है। सूरत इस फाफड़ा को पसंद रहे हैं। वहीं सौराष्ट्र के कारीगर चौड़े नायलॉन का फाफड़ा बनाते हैं और उस पर हिंग छिडक़ते हैं। इस फाफड़ा की मांग रहती है।
सूरती और काठियावाड़ी फाफड़ा के साथ-साथ सूरत में भी राजस्थानी फाफड़ा की मांग देखने को मिल रही है। फाफड़ा इन दिनों सूरत के  राजस्थानी रेस्टोरेंट में बिक रहा है, जो देर रात खुला रहता है। राजस्थानी फाफड़ा में सुरती और काठियावाड़ी फाफड़ा की तुलना में अधिक नमक होता है और वे फाफड़े थोड़े लाल हो जाते हैं इसलिए कुछ लोग इसकी डिमांड करते है।  


इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें