सूरत : हजीरा घोघा रो रो फेरी कंपनी के संचालक के साथ धोखाधडी करनेवाला गिरफ्तार

सूरत साईबर सेल ने ठग को दिल्ली से 67.79 लाख रुपये के साथ पकड़ा

आरोपी ने कंपनी की ईमेल आईडी के प्रारूप जैसी हुबहु फर्जी आईडी बनाकर पेमेन्ट रिक्वेस्ट के लिए अनुरोध भेजकर ६७.७९ लाख ट्रान्सफर कर लिए

कोचीन शिपयार्ड कंपनी के नाम से फर्जी ईमेल आईडी भेजा गया था
सूरत साइबर सेल ने हजीरा-घोघा रो-रो फेरी कंपनी के संचालकों के साथ 67.79 लाख रुपये की धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किया है। कोचीन शिपयार्ड कंपनी के नाम से एक फर्जी ईमेल आईडी भेजाबाज ने बनाई थी। फर्जी आईडी से कोचीन शिपयार्ड कंपनी की ओर से जिस प्रारूप में मेल आते थे उसी प्रारूप में मेल भेजकर धोखाधड़ी थी। जिसमें फर्जी आईडी फॉर्मेट में कंपनी की ईमेल आईडी पर पेमेंट रिक्वेस्ट भेजकर 67.79 लाख रुपये से ज्यादा फर्जी तरीके से बैंक ऑफ इंडिया के खाते में ट्रांसफर कर दिए गए।
साइबर क्राइम दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है। बढ़ती तकनीक के साथ लेभागु और भेजाबाजो इसका दुरुपयोग कर रहे हैं और लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। सूरत में एक ऐसी ही घटना सामने आई है। सूरत के उधना दरवाजा इलाके में डिटॉक्स ग्रुप नाम की कंपनी हजीरा-घोघा रो-रो फेरी संचालित करती है।
2021 में, एक जापानी कंपनी से डिटॉक्स समूह द्वारा एक नया वॉयेज एक्सप्रेस जहाज आयात किया गया था, जिसका रखरखाव का भुगतान करने का बाकी था। कंपनी द्वारा ईमेल आईडी से भुगतान करने की रिक्वेस्ट भेजी थी मगर भुगतान नही हुआ था। दुबारा उसी मेल आईडी से भुगतान के लिए मेल आने पर पेमेन्ट का भुगतान कर दिया था। बाद में पता चला कि कंपनी को पेमेन्ट मिला ही नही। धोखाधड़ी का शिकार हुई डिटॉक्स कंपनी के मैनेजरों द्वारा सूरत साइबर शेल में शिकायत दर्ज करायी थी। भेजाबाज ने हुबहु फेक मेल आईडी पर से पेमेन्ट रिक्वेस्ट भेजकर 67.79 लाख रुपये बेन्क ऑफ इन्डिया के एकाउन्ट में ट्रान्सफर करा लिए थे। जिसके बाद धोखाधडी की शिकार हुई डिटोक्स कंपनी की शिकायत पर पुलिस ने भेजाबाज शुभम रामस्वरूप रामप्रसाद गौतम को दिल्ली से गिरफ्तार किया है।
सूरत साइबर शेल द्वारा आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार करने के बाद आगे की पूछताछ की गई। आरोपी ने कहा कि  स्वमं उसने कंपनी के ईमेल आईडी पर फर्जी आईडी बनाया था। फर्जी आईडी से कोचीन शिपयार्ड कंपनी की ओर से जिस प्रारुप में मेल आते थे उसी प्रारुप में मेल भेजा था। फेक आईडी पर कंपनी के फोर्मेट में कंपनी के मेल आईडी पर पेमेन्ट रिक्वेस्ट भेजकर  67.79 लाख रुपये की राशि बैंक ऑफ इंडिया के खाते में ट्रांसफर कर दिया।
एसीपी साइबर युवराज सिंह गोहिल के मुताबिक, आरोपी ने 10वीं तक पढ़ाई की है। आरोपी फिलहाल अमेजन नाम की कंपनी में डिलीवरीमैन के तौर पर काम करता है। हजीरा घोघा रो-रो फेरी कंपनी से जुड़े धोखाधड़ी के मामले में अन्य लोगों के भी शामिल होने की संभावना है। संभव है कि यह धोखाधड़ी कंपनी की ईमेल आईडी हैक कर की गई हो। जबकि आरोपी को कंपनी के किसी अंदरूनी सूत्र द्वारा एक टिप दी जा सकती थी, जिसके बारे में गहन जांच शुरू कर दी गई है। अन्य लोगों के शामिल होने की संभावना सामने आ रही है। जांच पूरी होने से इंकार नहीं किया जा सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें