सूरतः नि: शुल्क टीकाकरण के दुष्प्रभाव, निजी अस्पतालों में पेईड टीकाकरण के लिए निरसता

सूरत के निजि अस्पतालो में सशुल्क टीका अभियान निरस

सूरत में महानगरपालिका द्वारा निःशुल्क कोरोना टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है जिसके कारण निजि अस्पतालों में सशुल्क टीका लगाने के लिए निरसता देखी जा रही है।

पिछले दस दिनों में छह बड़े निजी अस्पतालों में पेईड वैक्सीनेशन शुरू किया ,  इन निजी अस्पतालों के पास अभी भी टीकों का 50 फीसदी स्टॉक बचा 
सूरत नगर निगम द्वारा शहर में नि:शुल्क टीकाकरण किया जा रहा है। उधर मनपा के प्रयास से शहर के छह बड़े निजी अस्पतालों में पिछले दस दिनों में पेईड टीकाकरण शुरू किया गया है। अधिकांश निजी अस्पतालों में विभिन्न कंपनियों, बड़े संगठनों के कर्मचारियों के टीकाकरण के अनुबंध थे। हालांकि इन निजी अस्पतालों के पास अभी भी टीकों का 50 फीसदी स्टॉक बचा है। कुछ निजी अस्पतालों ने अभी तक भुगतान किए गए टीकाकरण के लिए किसी भी कंपनी या संगठन के साथ समझौता नहीं किया है । नगर निगम द्वारा शासन के निर्देशानुसार शहर में नि:शुल्क टीकाकरण किया जा रहा है। सरकार ने निजी अस्पताल में कोविशिल्ड के लिए 850 रुपये और कोवासिन के लिए 1,450 रुपये की कीमत एक डोज के लिए तय की है।
मनपा के माध्यम से नि:शुल्क टीकाकरण होने के कारण आम लोग सशुल्क टीकाकरण के लिए तैयार नहीं हैं। वीनस, अपोलो क्लिनिक, महावीर कार्डिएक, सेल्बी, बाप्स और सनशाइन ग्लोबल हॉस्पिटल द्वारा कंपनी से सीधे कुल 28,986 वैक्सीन खुराक खरीदी गईं। विभिन्न कंपनियों और उद्योगों के साथ समझौते के बाद कुछ अस्पतालों ने 159 सत्रों में 13,891 लोगों को खुराक दी है। जबकि एक-दो अस्पतालों में अभी तक कोई समझौता नहीं हो पाया है और लोग पेईड डोज के कारण वैक्सीन के लिए नहीं आते हैं।
यदि उद्योग निकाय उद्योगपतियों को सूचित करता है तो अस्पताल के साथ एक समझौता होने की संभावना है। परिणामस्वरूप सभी छह निजी टीकाकरण अस्पतालों में जिम्मेदार लोगों के साथ एक बैठक भी की गई। यह सुनिश्चित करने के लिए योजनाएँ चल रही थीं कि निजी अस्पताल में उपलब्ध टीकाकरण का उपयोग न करने के कारण रद्द न किया जाए। मनपा ने भी समझौते से अस्पताल की मदद के लिए तत्परता दिखाई है। मनपा के दबाव के चलते निजी अस्पताल पेईड वैक्सीनेशन का काम शुरू करने को तैयार हो गए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें