सूरत : आशिक की खोज में मधुबनी पहुंची युवती की महिला विकास मंच ने की मदद

(Photo Credit : citypostlive)

शादी के कुछ समय तक घरवालों ने नहीं उठाया कोई सवाल, कुछ समय बाद बनाया युवक पर पत्नी को छोड़ने का दबाव

कहते है की प्यार सीमाएं नहीं देखती। कुछ ऐसा ही देखने मिला है सूरत की निशा के मामले में, जब उसने अपने प्रेमी को ढूँढने के लिए बिहार के मधुबनी पहुंची थी। मामला जिले के जयनगर प्रखंड के खैरामाठ गाँव का है। जहां गाँव के स्व. किशुन्न यादव के बेटे श्रवण यादव जो की सूरत में रहकर नौकरी करता था, उसकी निशा कुमारी से नजर मिल गई। 
दोनों ने सूरत में आपसी सहमति से शादी भी कर ली। इस बात की जानकारी श्रवण के घर वालों को भी थी। शुरुआत में तो श्रवण के घरवालों ने कोई भी आनाकानी नहीं की। पर कुछ समय के बाद उसके घर वालों ने निशा को छोड़ने का दबाव बनाने लगे। इसके बाद श्रवण लड़की को छोड़कर चुपचाप भाग गया। श्रवण के छोड़कर जाने के बाद निशा उसे ढूंढते हुये बिहार के मधुबनी पहुंची। 
निशा ने इस पूरे मामले की जानकारी आवेदन कर स्थानीय तंत्र और महिला विकास मंच को दी। इसके बाद प्रशासन के सहयोग से महिला विकास मंच की अध्यक्षा दीपशिखा सिंह, सचिव विमल गुप्ता, उपाध्याख राधा अग्रवाल तथा अन्य सदस्यों द्वारा लड़की को उसके पति के यहाँ पहुंचाया। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें