सूरत : दिसंबर महिने में बेमौसम बारिश से हिल स्टेशन जैसा माहोल

दिसंबर महिने में सूरत शहर में हुई बेमौसम बारिश से शहरवासि कंफ्युज हुए कि स्वेटर पहने या रेईनकोट

दिसंबर महिने में बेमौसम बारिश से हिल स्टेशन जैसा माहोल हो गया है जिससे शहरवासि कंफ्युज हुए कि स्वेटर पहने या रेईनकोट

मौसम विभाग ने और दो दिनों तक बेमौसम बारिश का अनुमान जताया
सूरत राज्य के मौसम विभाग कि चेतावणी के अनुसार सूरत शहर जिला सहित राज्य के कई हिस्सों में बेमौसम बारिश हुई। मौसम विभाग ने और दो दिनों तक बारिश का अनुमान जताया है। बुधवार सूबह शहरवासि असमंजस में पड गए की नोकरी धंधा पर जाने के लिए ठंड से बचने के लिए स्वेटर पहने या बारिश से बचने के लिए रेईन कोट पहने। कई लोगो को रेईकोट ढुंढने पडे। जिले में दिन भर बादल छाए रहने के बीच  बेमौसम बारिश हुई। बुधवार को शहर में एक इंच तक बारिश होने का अनुमान है। बेमौसम बारिश से किसान परेशान हैं। खेतों में तथा गोदामों रखी फसल बारिश से बर्बाद हुई है। बुधवार को शहर का अधिकतम तापमान 22.0 डिग्री और न्यूनतम 20.6  डिग्री रिकॉर्ड किया गया। आर्द्रता 94 फीसदी और हवा का दबाव 1013 मिलीबार दर्ज हुआ। पुरे दिन शहर में पूर्व दिशा से ठंडी हवा चलती रही। शहर में बुधवार सूबह से ही आसमान में काले बादल छाए थे और बेमौसम बारिश के कारण हिल स्टेशन जैसा माहौल छा गया था। तेज हवा के कारण पहाडी और बर्फिले प्रदेश का अनुभव शहरवासियों को हुआ। 
सूरत शहर जिले के सभी तहसिलों में कही ज्यादा तो कही हलकी बारिश दर्ज हुई। सूरत के अलावा नवसारी, वलसाड, डांग और तापी जिले में भी बेमौसम बारिश के कारण समग्र द‌क्षिण गुजरात का मौसम परिवर्तित हो गया। बरसात के सिजन में होनेवाली बारिश का अनुभव दिसंबर महिने में हुआ। 
गिर-सोमनाथ जिले के ऊना और सूरत के उमरपाड़ा में सबसे ज्यादा बारिश के साथ 96 तालुकों में बुधवार सुबह  से शाम तक बारिश हुई।सुरेंद्रनगर, राजकोट, जामनगर, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, भावनगर, मोरबी, द्वारका, गिरसोमनाथ, बोटाद में सबसे ज्यादा बारिश हुई। कच्छ में मौसम शुष्क रहने का अनुमान है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें