सूरत: बिल्डर ने की मध्य प्रदेश के व्यापारी के साथ 80 लाख की ठगी

पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई कर रही है।

बिल्डर ने न तो फ्लेट दिया और न ही पैसा लौटाया

शहर वराछा रोड के एक बिल्डर ने जमीन मालिक के साथ मिलकर  सचिन जीआईडीसी इलाके में उन गोल्डन पार्क नाम का प्रोजेक्ट शुरू किया है। परियोजना में खरीदे गए 12 फ्लैटों के एवज में व्यापारी ने कुल 87.42 लाख रुपये जब्त किए हैं और एक भी फ्लैट नहीं दिया है। इतना ही नहीं, बिल्डर ने प्रोजेक्ट में आगे कोई काम नहीं किया, केवल 7 लाख रुपये लौटाए और 80.42 लाख रुपये का चूना लगाया। इसलिए पीड़ित मध्यप्रदेश  के व्यापारी ने सचिन जीआईडीसी थाने में शिकायत दर्ज कराई है और पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की जांच की है।
सचिन जीआईडीसी पुलिस के अनुसार मध्य प्रदेश के इंदौर के मानेकबाग रोड स्थित अशोका कॉलोनी निवासी फैसल इब्राहिम सुपेडीवाला (उम्र- 50) इंदौर के सियागंज स्थित जवाहरमार्ग गणपति प्लाजा में मैगलोर ट्रेडिंग कॉरपोरेशन के नाम से सूखे मेवे (काजू) का व्यवसाय करते हैं।  फैसल सुपेडीवाला ने 2012 में जमीन-मकान का दलाली का काम करते उनके दोस्त गुलाल उस्मान पोठियावाला (निवासी-पल हाइट्स, रांदेर गोराट रोड, सूरत) ने बुलाया था और  सूरत में गोल्डन पार्क नामक एक परियोजना शुरू होने जा रही है। एक फ्लैट की कीमत रु. 10 लाख है। आपके पास निवेश करने का अच्छा मौका है। फैसल ने दोस्त गुलाल के कहने मुताबिक  प्रफुल्ल सवजी नावडिया (निवासी-सस्वाधान सोसायटी, वराछा) और जितेश राजेंद्र कदम (निवासी- ठाकोरदीप सोसायटी, वसंत विहार, उधना मगदल्ला रोड) के प्रोजेक्ट में 12 फ्लेट बुक कराया था। इसके बाद 2012 से 2013 तक तमाम फ्लेट के 87.42 लाख टुकड़े-टुकड़े कर चुका दिया। 
डी ब्लॉक में सात फ्लैटों के लिए कब्जा रसीदें और डीड समझौते भी किए गए थे, जबकि  सी ब्लॉक में शेष पांच फ्लैटों के कागजात के लिए जितेश कदम बार-बार बहना बनाता रहा।  इस बीच खुलासा हुआ कि आरोपियों ने डी ब्लॉक में सात फ्लैट अन्य व्यक्ति को बेचकर कब्जा भी सौंप दिया था। अपने दोस्त गुलाल  के माध्यम से फैसले की सूचना मिलने के बाद वह सूरत आया था। जितेश कदम के साथ बैठक में उन्होंने 7 लाख रुपये लौटाए और बाकी पैसे या फ्लैट बदले में देने की बात कही। हालांकि समय के साथ जितेश ने फोन उठाना बंद कर दिया और प्रफुल्ल सवजी नावडिया से बात करते हुए जितेश को प्रोजेक्ट सौंप दिया। फैसल सुपेडीवाला की शिकायत के बाद जमीन मालिक प्रफुल-सवजी नावडिया और डेवलपर एवं मालिक जितेश के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें