सूरत : ऑनलाइन खरीदी से बचें, आस-पास की दुकानों से वस्तुएं खरीदें ग्राहक

अमित खेमानी

ऑनलाइन पर्चेज से डुप्लीकेट वस्तु मिलने के चांस रहते हैं

सूरत के उधना क्षेत्र में बीआरसी के पास लक्ष्मी नारायण इंडस्ट्रीयल में डी-91-92 में खेमानी ग्रुप के नाम से व्यापार करते अमित खेमानी कहते हैं कि हाल में ऑनलाइन खरीदी का प्रचलन बढ़ रहा, लेकिन ऑनलाइन पर्चेज से डुप्लीकेट वस्तु मिलने के चांस अधिक रहते हैं। क्योंकि हाल में ऑनलाइन के माध्यम से नकली सामान मिलने लगे हैं। जब आप आसपास की दुकानों से सामान खरीदते हैं तो उसे अच्छी तरह से परख करके लेते हैं। नजदीकी दुकानदारों से सामान खरीदने पर जहां एक ओर ग्राहकों को अच्छा सामान मिलेगा, वहीं छोटे-मोटे दुकानदारों की भी दुकानदारी चलती रहेगी।

हमारी वस्तुएं रोजमर्रा की हैं, जिससे ग्राहकी हमेशा बनी रहती है

अमित विजय कुमार खेमानी बताते हैं कि हमारे पास फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) यानी सुबह उठने के बाद से लेकर रात्रि तक की जीवनोपयोगी वस्तुओं के उत्पादन करने वाली हिन्दुस्तान लिवर लि., आईटीसी, प्रिया गोल्ड, मेप्रो आदि प्रख्यात कंपनियों की डीलरशीप है। हमारी वस्तुएं रोजमर्रा की हैं, जिससे ग्राहकी हमेशा बनी रहती है। हाल में भी अच्छी ग्राहकी है। बीते सालों में व्यापार की बात करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना काल में तो सुबह से लेकर शाम तक हम लोग माल की सप्लाई करते रहे। उस दरम्यान कंपनियों ने भी अच्छा सपोर्ट किया। जब भी और जितने भी माल की आवश्यकता होती थी, वे सप्लाई करते रहते थे। 

महंगाई की मार से में परचेसिंग पावर थोड़ी कम हो सकती है

पिछले 15 वर्षों से व्यापार करते अमित खेमानी बताते हैं कि हमारी डीलरशीप में आटा, सनफिस्ट, इप्पी नूडल्स, अगरबत्ती, सेनेटाइजर, साबुन, वाशिंग पावडर, चाय पत्ती, टुथपेस्ट, टायलेट क्लीनर यानी तमाम दैनिक जीवन में उपयोग होने वाली वस्तुएं सप्लाई की जाती हैं। हाल में ग्राहकी ठीक है, दीपावली के समय भी अच्छी ग्राहकी रही। आज लोगों की परचेसिंग पावर बढ़ गई है। बीते सालों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना काल एवं उससे पहले भी ग्राहकी अच्छी रही। आगामी दिनों में भी मार्केट में तेजी के आसार रहेंगे, लेकिन महंगाई की मार से में परचेसिंग पावर थोड़ी कम हो सकती है, परंतु मार्केट में मांग रहेगी। हाल में भी यूजर की वॉल्यूम कम हुई है, जहां 100 किलो वस्तुएं उपयोग होती थी, वहां आज 80 किलो हो गयी हैं। हमारे मार्केट में ऑल ओवर 10 से 15 प्रतिशत का ग्रोथ रहता है। लोगों का लिविंग स्टैंडर्ड बढ़ने से मार्केट में अच्छा सुधार रहेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें