शोध : अगर आपको भी हाई ब्लड प्रेशर तो रात में सोने से पहले जरुर खाएं दवाई

सोने से पहले गोलियां लेने वाले रोगियों में दिल का दौरा पड़ने का जोखिम 44 प्रतिशत और हृदय रोग का 66 प्रतिशत कम जोखिम

आज के समय में व्यस्त जीवनशैली के कारण उच्च रक्तचाप बहुत ही सामान्य हो गया है। डॉक्टर्स उच्च रक्तचाप के रोगियों को समय से पहले मृत्यु के जोखिम को कम करने के लिए नियमित अपनी गोलियाँ लेने का आग्रह किया जाता है। इससे जुड़े एक अध्ययन में कहा गया था कि जो वयस्क उच्च रक्तचाप, हृदय रोग या स्ट्रोक से पीड़ित हैं, अगर वे सोने से पहले नियमित रूप से अपनी दवा लेते हैं, तो उन्हें दिल का दौरा पड़ने का खतरा बहुत कम होता है।
आपको बता दें कि स्पेन में वैज्ञानिकों ने उच्च रक्तचाप की दवा लेने वाले 19,000 रोगियों की जांच की। करीब 9,500 मरीजों को सोने से पहले और बाकी सुबह दवा लेने को कहा गया। परिणामों से पता चला कि सोने से पहले गोलियां लेने वाले रोगियों में दिल का दौरा पड़ने का जोखिम 44 प्रतिशत और हृदय रोग का 66 प्रतिशत कम जोखिम था। शोधकर्ता यह समझाने में असमर्थ हैं कि बिस्तर से पहले दवा लेने से इतना गहरा प्रभाव कैसे पड़ता है। वहीं स्पेन में शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि हर दिन दिल का दौरा पड़ने से दो महिलाओं की मौत हो जाती है क्योंकि डॉक्टरों को लगता है कि दिल का दौरा केवल पुरुषों की बीमारी है। ऐसी मानसिकता के कारण महिलाओं को उचित इलाज नहीं मिल पाता जिसके कारण उनकी मौत हो जाती है। उन्होंने कहा कि यह सच है कि कभी दिल का दौरा पुरुषों की बीमारी माना जाता था, लेकिन अब महिलाएं भी इस बीमारी का शिकार हो गई हैं।
ब्रिटिश हेल्थ फाउंडेशन की रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं को इस मानसिकता के कारण शिकार किया जा रहा है कि सिर्फ पुरुषों को ही हार्ट अटैक आता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें