लोकडाउन का उल्लंघन करने वाले बालों को को पुलिस ने दी विचित्र सजा, तालाब में नहाने गए बालकों का निकाला नग्न झुलूस

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

तालाब पर तैनात तैराकों से छिपवाए बालकों के कपड़े, लोगों ने की निंदा

देश भर में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप कम हुआ है। पर फिर भी देश के कई हिस्सों में आंशिक लोकडाउन चल रहा है। जिससे कि कोरोना के बढ़ने की कोई गुंजाइश ना रहे। ऐसे ही राज्यों में मध्यप्रदेश का समावेश होता है, जहां से एक हैरान कर देने विचित्र घटना सामने आई है। मध्यप्रदेश के भोपाल में लॉकडाउन का भंग करने वाले बालकों को पुलिस द्वारा एक विचित्र सजा दी गई। जिसके चलते कई लोग पुलिस के इस रवैये की काफी निंदा कर रहे हैं।
विस्तृत जानकारी के अनुसार, भोपाल के एक तालाब में रविवार को कुछ बालक लोकडाउन का भंग करके नहाने के लिए पहुँच गए। जिन्हें पुलिस ने देख लिया, बालकों को देखने के बाद पुलिस ने आत्महत्या के लिए आने वाले लोगों को बचाने के लिए वहाँ तैनात तैराकों से बालकों के कपड़े छुपाने कह दिया। जिसके बाद पुलिस ने सभी बच्चों को नग्न हालत में ही वहां से बाहर निकाला और उनका जुलूस निकाला।
देश के कई हिस्सों में पुलिस द्वारा लॉकडाउन का भंग करने वालों को विभिन्न सजा दी जाती है। हालांकि इस तरह से नग्न हालत में बच्चों का जुलूस निकालने की सजा लोगों को योग्य नहीं लग रही। जिसके चलते लोगों ने पुलिस की इस कार्यवाही की काफी निंदा की है। हालांकि अभी तक इस मामले में पुलिस के खिलाफ कोई शिकायत दर्ज हुये होने की या कोई कार्यवाही किए होने की जानकारी सामने नहीं आई है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें