पश्चिम बंगाल में कोरोना वैक्सीन प्रमाण पत्र पर सीएम ममता बैनर्जी की तस्वीर

(File Photo : IANS)

बंगाली और अँग्रेजी में लिखा जाएगा 'बी अलर्ट, बी सेफ', इसके पहले झारखंड सरकार भी कर चुकी है ऐसा

देश भर में कोरोना वैक्सीनेशन का काम काफी तेजी से चल रहा है। संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में टीकाकरण कार्य को तेज कर दिया गया है। हालांकि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर प्रधानमंत्री मोदी की तसवीरों को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। विपक्ष द्वारा लगातार केंद्र सरकर द्वारा लगातार प्रधानमंत्री मोदी पर निशान साधा जा रहा है। कुछ ही समय पहले वैक्सीनेशन पर सर्टिफिकेट पर मोदी का फोटो होने के कारण पंजाब के प्रोफेसर ने तो वैक्सीन लेने से ही मना कर दिया था। कई राज्य सरकारों ने भी इसका विरोध किया था। झारखंड के मुखमंत्री का कहना था की यदि राज्य अपने पैसों से वैक्सीन की व्यवस्था कर रही है तो उस पर प्रधानमंत्री की फोटो क्यों हो। वहीं सोशल मीडिया पर भी कई लोगों ने इसका विरोध किया था। 
इस बीच पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी ने भी एक बड़ा निर्णय लिया है। ममता बनर्जी ने कोरोना वैक्सीनेशन के बाद मिलने वाले सर्टिफिकेट पर से मोदी की तस्वीर बदलने का निर्णय लिया है। राज्य सरकार की तरफ से होने वाले तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में 18-44 साल के नागरिकों को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तस्वीर वाला सर्टिफिकेट दिया जाएगा। तस्वीर के साथ प्रमाणपत्र में बंगाली और अंग्रेजी में 'बी अलर्ट, बी सेफ' का नारा दिया जाएगा। बता दे कि इसके पहले छतीसगढ़ सरकार भी ऐसा कर चुकी है। 
बता दे कि ममता बनर्जी कई बार मांग कर चुकी है कि सभी को मुफ्त में टीका लगाया जाए। उन्होंने सर्टिफिकेट पर प्रधानमंत्री की तस्वीर होने कि भी आलोचना की। हालांकि अब टीएमसी को लगता है कि सर्टिफिकेट पर मुख्यमंत्री ममता की तस्वीर होना गलत नहीं है। टीएमसी सरकार के इस फैसले से बीजेपी काफी नाराज है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा कि टीएमसी पीएम पद की गरिमा को स्वीकार नहीं कर रही है। टीएमसी एक अलग देश की तरह व्यवहार कर रही है। जो कि सही नहीं है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें