अब आर्ट्स-कॉमर्स के छात्र भी इंजीनियरिंग कर पाएंगे

(Photo Credit : medium.com)

अलग अलग फील्ड से आने वाले छात्रों के लिए शुरू किया जाएगा ब्रिज कोर्स, विशेषज्ञो द्वारा किया गया विरोध

साल 2021-22 से शुरू होने वाले नए सत्र से शिक्षा क्षेत्र में एक और बदलाव आने वाला है। इसके अंतर्गत कक्षा 12 में मेथ्स, फिजिक्स या केमेस्ट्री का शिक्षण ना लिया हो वैसे विध्यार्थी भी अब इंजीनियरिंग के पढ़ाई कर पाएंगे। ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एज्यूकेशन (AICTE) ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले पर उपर्युक्त विषय न पढ़ पाने वाले छात्रों के लिए नियमों में बदलाव किया है। 
इन विषयों में लाने होंगे 45 प्रतिशत से ज्यादा अंक
नए नियमो के अनुसार AICTE ने 14 विषय की एक लिस्ट दी है। कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में इन 14 विषयों में से किसी भी 3 विषय में यदि छात्र के 45 प्रतिशत नंबर आए होंगे तो वह इंजीनियरिंग में प्रवेश पा सकेगा। AICTE द्वारा जिन 14 विषयों की लिस्ट दी गई है, उसमें फिजिक्स, मेथेमेटिक्स, केमेस्ट्री, कम्प्युटर साइन्स, बायोलोजी, इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी, इन्फेर्मेटिक्स प्रेक्टिसिस, बायो टेक्नोलोजी वोकेशनल सबजेक्ट, इंजीनियरिंग ग्राफिक्स, बिजनेस स्टडीस और एंट्रेप्रेन्योरशिप का समावेश होता है। 
इन छात्रों के लिए युनिवर्सिटियों द्वारा मेथेमेटिक्स, फिजिक्स और इंजीनियरिंग ड्रॉइंग्स जैसे ब्रिज कोर्स ऑफर किया जाएंगे। इस लिस्ट में दिये गए 14 विषयों में से 3 विषयों में कम से कम 45 प्रतिशत अंक लाने रहेंगे। 
विशेषज्ञों द्वारा किया जा रहा है विरोध
AICTE के इस निर्णय का शिक्षणशास्त्रियों द्वारा काफी विरोध किया जा रहा है। सस्त्र यूनिवर्सिटी के वाइस चांसेलर एस वैध्यसुबरमनियम ने बताया की मेथ्स सभी इंजीनियरिंग की पढ़ाई का बेस है। जो छात्र मेथ्स में कमजोर होंगे, उनके लिए शुरू होने वाला ब्रिज कोर्स कक्षा 12 में पढ़ाये जाने वाले मेथ्स का स्थान नहीं ले सकता। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें