नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे : जानिए ‘शारीरिक संबंध’ को लेकर क्या कहते हैं आंकड़ें

प्रतिकात्मक तस्वीर (File Photo: IANS)

नेशनल फैमिली हेल्थ के पांचवें सर्वे में भारतीयों में एचआईवी जैसी जानलेवा बीमारियों के खतरे को समझने के लिए उनकी सेक्स लाइफ से जुड़े कई सवाल पूछे गए

आज के समय में भी अपने समाज में लोग शारीरिक संबंध बनाने को लेकर बात करने से बचते हैं। इस समय नेशनल फैमिली हेल्थ के पांचवें सर्वे में भारतीयों में एचआईवी जैसी जानलेवा बीमारियों के खतरे को समझने के लिए उनकी सेक्स लाइफ से जुड़े कई सवाल पूछे गए. इनमें पहली बार सेक्स की उम्र, सेक्सुअल पार्टनर्स की संख्या और सेक्स के लिए भुगताने करने जैसी बातें भी शामिल थीं।
आपको बता दें कि नेशनल फैमिली हेल्थ की एक रिपोर्ट के अनुसार, एचआईवी होने का खतरा घर पर रहने वाले एक से अधिक यौन साथी, जीवनसाथी या साथी के साथ यौन संबंध बनाने से बहुत बढ़ जाता है। साथ ही एक महीने या उससे अधिक समय तक घर से दूर रहने से लोगों के एक से अधिक यौन साथी होने की संभावना बढ़ जाती है। इसी तरह की प्रवृत्ति शिक्षित और धनी भारतीयों में अधिक प्रचलित है। इस सर्वेक्षण में पाया गया कि यहाँ लोग औसतन सात दिनों के अंतराल पर सेक्स करते हैं। जबकि बड़ी उम्र की महिलाओं में सेक्स करने के बीच का अंतराल बढ़ जाता है, और पुरुषों में कम हो जाता हैं। उदाहरण के लिए 45 साल की उम्र में महिलाओं में सेक्स का अंतराल 7 दिन से बढ़कर 20 से 21 दिन हो जाता है। पुरुषों में ये ८ दिन हो जाती है।
साथ ही इस सर्वे में पाया गया कि लंबे समय से शादीशुदा पुरुष और महिलाएं अविवाहित लोगों की तुलना में कम सेक्स करते हैं। घर से बाहर बाहर रहने पर ये आंकड़े बदलते हैं। जब महिलाएं एक महीने या उससे अधिक समय तक घर से दूर रहती हैं, तो उनके यौन साझेदारों की संख्या औसतन 1.7 से बढ़कर 2.3 हो जाती है। जबकि पुरुषों के लिए यह समान ही रहता है। 56 फीसदी लड़कियों और केवल 32 प्रतिशत पुरुषों ने माना कि जब वे घर से बाहर होती हैं तो सेक्स करते हैं। घर से दूर रहने पर महिलाएं सेक्स को लेकर ज्यादा इस्तेमाल करती हैं। ज्यादातर समय वे दो या दो से अधिक भागीदारों के साथ या घर के बाहर पति के अलावा किसी और के साथ रिश्ते में होते हैं। हालांकि, पेड सेक्स के मामले में पुरुष बहुत आगे है। महिलाएं बहुत कम ही ऐसा  करती हैं। पुरुषों के लिए यह आंकड़ा 53 फीसदी और महिलाओं के लिए 3 फीसदी है।
सर्वेक्षण में पाया गया कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में तेजी से सेक्सुअल एक्टिव होती हैं। वे यौन सक्रिय हैं या नहीं यह कई कारकों पर निर्भर करता है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, लड़कों की तुलना में लड़कियों में 15 साल की उम्र तक सेक्स करने की संभावना अधिक होती है।

(इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी loktej.com की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.)

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें