मोरबी: कोयले की आड़ में चल रहे शराब की तस्करी का भंडाफोड़, पुलिस ने जब्त की बड़ी मात्रा में शराब

(Photo Credit :sandesh.com)

रूटीन चेकअप में पकड़ा एक ट्रक, जाँच करने पर कोयले के पीछे छिपी हुई मिली शराब की 1080 बोतलें

गुजरात राज्य में पूरी तरह से शराबबंदी है। यहाँ शराब पीना और बेचना दोनों ही कानूनन अपराध माना जाता है। इसके साथ साथ समय समय पर पुलिस शराब बेचने वालों को पकड़ती रहती है पर इसके बावजूद कुछ तस्कर आये दिन गुजरात में शराब की तस्करी करते हुए धर लिए जाते है। पुलिस के इन सख्त कदमों के बाद भी गुजरात में शराब की तस्करी के लिए तस्कर अवैध शराब पहुँचाने के नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। अब मोरबी से बड़ी मात्रा में शराब जब्त किया गया है। इस बार कोयले की आड़ में तस्करों द्वारा भारी मात्रा में लाई गई शराब को पुलिस ने जब्त कर लिया है।
जानकारी के अनुसार पुलिस ने शंका के आधार पर एक संदिग्ध कोयले से भरे ट्रक को रोका और जब उसकी तलाशी ली गई तो उसमें से लाखों रुपये की शराब बरामद हुई। उसे देखकर पुलिस भी हैरान रह गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार ए डिवीजन पुलिस ने पहली जुलाई की रात को कोयले से लदे ट्रक को मोरबी के रावापार चौकड़ी में रोका। पुलिस को देखते ही ट्रक चालक व क्लीनर फरार हो गया। पुलिस को दाल में कुछ काला नजर आया और फिर इसके बाद पुलिस राजस्थान से आये इस ट्रक को ए डिवीजन थाने ले आई।
ऐसे में घटना के 24 घंटे बाद भी जब कोई ट्रक लेने नहीं आया तो पुलिस का संदेह विश्वास में बदल गया और फिर ट्रक की जाँच करने पर कोयले के पीछे छिपी हुई 1080 शराब की बोतलें मिली। किसी को शक न हो इसके लिए शराब तस्करों ने कोयला खदान से कोयले की आड़ में शराब लाने की कोशिश की। वे ऐसा करने में सफल भी रहे होंगे पर इस बार रूटीन चेकिंग के दौरान रोके गए ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर के डर के मारे भागने से पुलिस को सुराग मिला और इतनी बड़ी मात्रा में शराब पकड़ी गई।
ऐसे में सवाल यह उठता है कि गुजरात में शराब पर प्रतिबंध के बावजूद शराब की तस्करी करने वाले लगातार सफल कैसे हो रहे हैं? इसी ट्रक की बात करें तो ये ट्रक भी आराम से मोरबी पहुंच ही जाता पर ट्रक चालक की गलती से ऐसा नहीं हुआ। फिलहाल पुलिस गहन जांच कर पूरे नेटवर्क का पर्दाफाश करने की कोशिश कर रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें