शादी के लिए धर्म परिवर्तन करने वाले हिंदुओं को लेकर मोहन भागवत ने कहा कुछ ऐसा

(Photo Credit : gujaratsamachar.com)

हिंदू जागेंगे तभी देश जागेगा, शादी जैसी चीजों के लिए धर्म परिवर्तन करना गलत - आरएसएस अध्यक्ष

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अध्यक्ष मोहन भागवत ने कहा कि हिंदू युवाओं का शादी जैसी चीजों के लिए धर्म परिवर्तन करना गलत है। साथ ही भागवत ने जोर देकर कहा कि परिवार के सदस्यों को अपने (युवाओं) के मन में धर्म के प्रति गर्व पैदा करना चाहिए। मोहन भागवत ने उत्तराखंड के हल्दानी में संघ कार्यकर्ताओं और उनके परिवारों को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की। 
कार्यक्रम के दौरान संघ अध्यक्ष ने कहा, 'धर्मांतरण कैसे होता है? क्षुद्र स्वार्थ के लिए, शादी के लिए? हिंदू लड़कियां और लड़के दूसरे धर्मों को कैसे अपनाते हैं? ऐसा करने वाले लोग गलत करते हैं, लेकिन यह दूसरी बात है। क्या हम अपने बच्चों की ठीक से देखभाल नहीं करते? इन सभी चीजों की शिक्षा हमें अपने बच्चों को घर पर देनी होती है। हमें उनमें धर्म के प्रति सम्मान, गौरव की भावना पैदा करनी होगी।'
आरएसएस अध्यक्ष ने कहा कि धर्म से जुड़े सवालों के जवाब लोगों को खुद ही ढूँढने  चाहिए। जिससे की यदि हमारा बालक कुछ भी आकर पूछे तो हमें कोई शंका ना रहे। हमें अपने बच्चों को तैयार करना होगा, इसके लिए हमें खुद चीजें सीखनी होंगी। संघ अध्यक्ष ने लोगों से भारतीय पर्यटन स्थलों की यात्रा करने, घर का बना खाना खाने और पारंपरिक पोशाक पहनने का आग्रह किया।
भागवत ने कहा कि भारतीय संस्कृति से जुड़े रहने के 6 मंत्र हैं। इनमें भाषा, भोजन, भक्ति गीत, यात्रा, पोशाक और घर शामिल हैं। भागवत ने लोगों से पारंपरिक रीति-रिवाज अपनाने को कहा। साथ ही उन्होंने खुद को अस्पृश्यता जैसी चीजों से दूर रखने का भी अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि जाति के आधार पर किसी के साथ भेदभाव न करें। संघ अध्यक्ष ने लोगों से पर्यावरण आदि मुद्दों पर बात करने को कहा ताकि पानी, पौधों को बचाया जा सके। साथ ही उन्होंने कहा, ''हिंदू जब जागेंगे, दुनिया जागेगी।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें