जानिये देवी काली के पोस्टर विवाद में सांसद महुआ मोइत्रा ने ऐसा क्या कह दिया जो FIR हो गई और TMC ने बयान से किनारा भी कर लिया

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा अपनी इस टिप्पणी के बाद विवादों में आ गई हैं कि उन्हें "एक व्यक्ति के रूप में देवी काली को मांस खाने वाली और शराब स्वीकार करने वाली देवी के रूप में कल्पना करने का पूरा अधिकार है।" उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को अपने तरीके से भगवान और देवी की पूजा करने का अधिकार है।
तृणमूल कांग्रेस नेता मंगलवार को फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई द्वारा ट्वीट किए गए एक पोस्टर पर विवाद पर एक सवाल का जवाब दे रहीं थी, जिसमें देवी को धूम्रपान करते दिखाया गया था।
मध्य प्रदेश में पुलिस ने बुधवार को टीएमसी सांसद के खिलाफ देवी काली के बारे में उनकी टिप्पणी को लेकर मामला दर्ज किया। एक अधिकारी ने कहा कि राज्य की राजधानी भोपाल में अपराध शाखा द्वारा भारतीय दंड संहिता की धारा 295 ए (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने) के तहत पहली सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की गई है।
महुआ की ओर से की गई टिप्पणी से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने दूरी बना ली है और इसकी निंदा की है। टीएमसी ने मंगलवार को ट्वीट किया जिसमें कहा गया कि इंडिया टूडे कॉनक्लेव इस्ट-2022 में महुआ मोइत्रा द्वारा की गई टिप्पणियां और देवी काली पर व्यक्त उनके विचार उनकी व्यक्तिगत क्षमता में किए गए हैं और पार्टी द्वारा किसी भी तरीके या रूप में समर्थित नहीं हैं। अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस इस तरह की टिप्पणियों की कड़ी निंदा करती है।
मोइत्रा ने स्पष्ट किया कि उन्होंने "कभी भी किसी फिल्म या पोस्टर का समर्थन नहीं किया है या धूम्रपान शब्द का उल्लेख नहीं किया है"। रिपोर्ट्स के मुताबिक मोइत्रा ने पार्टी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल को अनफॉलो कर दिया है. हालाँकि, वह अभी भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को फॉलो करती हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें