जानें कोरोना पॉजीटीव मरीज कितने दिनों बाद अन्यों नहीं कर सकता संक्रमित

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

एक संक्रमित व्यक्ति के लिए कोविड -19 से ग्रस्त होने के 10 दिन बाद किसी और को संक्रमण फैलाने की संभावना नहीं रहती

कोरोना महामारी के मामलों में गुजरात में विगत दो दिनों में गिरावट देखी गई लेकिन राष्ट्रीय स्तर की बात करें तो अब तक यह संख्या पिछले दो दिनों में 4 लाख को पार कर गई है। उधर स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी घोषित किया है कि कोई भी कोरोना की तीसरी लहर को देश में आने से नहीं रोक सकता है। ऐसे में लोगों की चिंता पहले से ज्यादा बढ़ गई है। भले ही वायरस को रोकने के लिए वैक्सीन कार्यक्रम चल रहा हो, लेकिन कोविड वायरस नये-नये रूप धर कर हमला कर रहा है, जो बहुत घातक है।
हालाँकि यह वायरस एक साल पुराना है, लेकिन इसे लेकर कई सवाल उठाए जा रहे हैं। जैसा कि आप जानते हैं कोविड एक व्यक्ति से दूसरे में फैलता है और इस प्रकार इसके संचरण की श्रृंखला जारी रहती है। इन दिनों हर किसी के दिमाग में एक ही सवाल चल रहा है कि एक व्यक्ति के कोविड पॉजीटीव होने के बाद वह कितने दिनों बाद किसी दूसरे व्यक्ति को संक्रमित नहीं कर सकता। एक संक्रमित व्यक्ति के लिए कोविड -19 से ग्रस्त होने के 10 दिन बाद किसी और को संक्रमण फैलाना संभव नहीं है। यही कारण है कि विशेषज्ञ लोगों को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह देते हैं।
प्रतिकात्मक तस्वीर (File Photo : IANS)
यदि किसी संक्रमित व्यक्ति को कोरंटीन अवधि के दौरान लगातार 3-4 दिनों तक बुखार या अन्य लक्षण नहीं दिखते हैं, तो वह संक्रमित व्यक्ति स्वस्थ माना जा सकता है और उसे रिपोर्ट कराने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन उसके अपने आइसोलेशन के 14 दिन पूरे करना अनिवार्य है जिससे ताकि वह भविष्य में फिर से संक्रमित न हो जाए। वायरस के संपर्क में आने के 10 से 14 दिनों के भीतर संक्रमित व्यक्ति का शरीर एंटीबॉडी बनाना शुरू कर देता है।
अध्ययन में यह भी पाया गया कि एक कोरोना संक्रमित रोगी 9-10 दिनों के बाद किसी अन्य व्यक्ति में वायरस नहीं फैला सकता है। अध्ययन के अनुसार संक्रमित व्यक्ति के अंदर मौजूद वायरस की 9-10 दिनों के बाद संक्रमण फैलाने की क्षमता खत्म हो जाती है। राष्ट्रीय संक्रामक रोगों के केंद्र ने यह भी कहा है कि एक कोरोना रोगी 10 दिनों के बाद संक्रमण से मुक्त होता है। कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को शुरुआती दिनों में संक्रमित करता है, उसी तरह से जो लोग संक्रमित होते हैं, भले ही उनके पास कोई लक्षण न हो, दूसरों को जल्दी संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए संक्रमित व्यक्ति को शुरुआती दिनों में अलग-थलग करने की आवश्यकता होती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें