कोविशिल्ड वैक्सीन के दो डोज़ के बीच की समयावधि बढ़ाने का निर्णय लिया गया है! जान लें वो क्या है?

(Photo Credit : livelaw.in)

NGTAI और वैक्सीन एक्सपर्ट ग्रुप की रिसर्च के बाद लिया फैसला

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए बनाई गई दोनों वैक्सीन काफी काम आ रही है। टीकाकारण अभियान ज़ोर शोर से चल रहा है। इसी बीच सोमवार को केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों को एक महत्वपूर्ण पत्र लिखा है। जिसमें कुछ और भी आदेश दिये गए है। इसके मुताबिक अब से कोविशील्ड की प्रथम और दूसरे डोज़ के बीच का अंतर बढ़ा दिया जाएगा। 
6 से 8 सप्ताह का अंतर ज्यादा प्रभावी
केंद्र सरकार ने कोविशील्ड के पहले और दूसरे डोज़ के बीच कम से कम 6 से 8 हफ्ते तक का अंतर होना चाहिए। NTGAI और वैक्सीन एक्सपर्ट ग्रुप द्वारा कुछ ही समय पहले की गई रिसर्च के बाद यह निर्णय लिया गया है। जिसका अमल राज्य सरकारों द्वारा शुरू कर दिया जाएगा। रिसर्च के अनुसार, यदि दो डोज़ के बीच 6 से 8 सप्ताह का अंतर हो तो वह ज्यादा प्रभावी साबित होता है। 
3 करोड़ से भी अधिक लोगों को लगा हैं टीका
बता दे की फिलहाल वैक्सीन के दो डोज़ के बीच मात्र 28 दिन यानि की 4 सप्ताह का अंतर रखा जाता है। कोविशील्ड वैक्सीन पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट की तरफ से बनाई गई है। जिसे देश में अत्यंत प्रभावी रूप से उपयोगी वैक्सीन के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। अब तक देश में 3 करोड़ से अधिक लोगों को टीका लग चुका है। 
उल्लेखनीय है की देश में वैक्सीन के प्रथम और दूसरे चरण में कोरोना वोरियर्स के अलावा 60 साल से अधिक उम्र के और 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीका दिया गया है। एक बार सेंटर पर रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद व्यक्ति को टीका देने की एक तारीख दी जाती है और उसी दिन टीका दिया जाता है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें