12 अगस्त को होगा इसरो का इमेजिंग सेटेलाइट जीआईएसटी-1

महामारी की दूसरी लहर के बाद की मात्र दूसरी लोंचिंग, कोरोना के कारण पहले ही काफी विलंबित हो चुका है प्रक्षेपण

कोरोना महामारी के कारण पिछले कई समय से विलंबित उपग्रह जीआईएसएटी-1 को ISRO द्वारा 12 अगस्त को लॉन्च किया जाएगा। इसरो द्वारा इस रियल टाइम इमेजिंग सैटेलाइट को अंतरिक्ष में स्थिर करने की सभी तैयारी पूर्ण कर ली गई है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर के शुरू होने के बाद यह मात्र दूसरा लोंचिंग होगा। जिसे श्रीहरीकोटा से लॉन्च किया जाएगा और इसके लिए 12 अगस्त का दिन निर्धारित किया गया है। इससे पहले श्रीहरिकोटा से 21 फरवरी को लोंचिंग हुई थी।
जियो इमेजिंग सैटेलाइट GSET-1 को GSLV-F10 रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा। GSET-1 का वजन 3 किलोग्राम है। यह मूल रूप से मार्च 2020 में लॉन्च होने वाला था, लेकिन तकनीकी त्रुटि के कारण इसे रद्द करना पड़ा। इसके बाद इस साल भी 9 मार्च को इसे फिर से लॉन्च किया जाना था, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के कारण इसे रद्द करना पड़ा।
ISRO ने अब GSET-1 के लॉन्च के लिए 12 अगस्त की तारीख तय की है। इसरो की एक आधिकारिक घोषणा में कहा गया है: यह सैटेलाइट कई मायनों में भारत के लिए गेम चेंजर साबित होगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें