प्रेरणादायक: नहीं है बाइक तो साईकल से ही फ़ूड डिलीवरी का काम करता है ये युवक

(Photo Credit : vtvgujarati.com)

रोजाना साईकल से करता है 16-18 डिलीवरी, रोजाना होता है 100-120 किलोमीटर जितना सफर

अगर लगन और मेहनत की जाए तो किसी भी स्थिति में काम किया जा सकता है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण अहमदाबाद के नवरंगपुरा का एक युवक है जो साइकिल पर खाना पहुंचाता है। इस युवक का नाम अशोक है और वह अभी 20 साल का है पर अभी से ही जितना हो सके उतना कमाना शुरू किया।
आपको बता दें कि आज कल ऑनलाइन फूड डिलीवरी बहुत लोकप्रिय है। आमतौर पर डिलीवरी बॉय घर पर गर्म खाना पहुंचाने के लिए बाइक का सहारा लेते हैं, लेकिन अगर कोई साइकिल से स्विगी या जोमैटो ऑर्डर करने आए तो हैरानी होगी न! अहमदाबाद के नवरंगपुरा में फूड डिलीवरी वर्कर अशोक एक साल से ज्यादा समय से स्विगी डिलीवरी पार्टनर के तौर पर काम कर रहे हैं। उसके पास वाहन नहीं है, इसलिए उसने साइकिल से डिलीवरी का रास्ता खोज लिया है। वो रोजाना साईकल से 16-18 डिलीवरी करता है।
एक ओर हम मानते हैं कि भोजन गर्म होने पर ही मज़ेदार रहेगा और अगर कोई भोजन साइकिल पर लेकर आएगा तो खाना बिल्कुल ठंडा हो जाएगा। हालांकि यह जरूरी नहीं है कि अहमदाबाद ट्रैफिक में बाइक हर बार जल्दी पहुंच जाए। इसलिए एक साल से ज्यादा समय से साइकिल की डिलीवरी कर रहे अशोक को देर से आने की कोई विशेष शिकायत नहीं मिली है। इसके विपरीत कुछ सड़कों पर साइकिल से डिलीवर आसानी से हो सकता हैं।  इसके अलावा, अशोक लंबी दूरी के लिए बीआरटीएस का उपयोग करता है। इसके साथ साथ अशोक बीएससी की पढ़ाई भी करता है।  उन्होंने अपनी पढ़ाई नहीं छोड़ी।  अशोक ने कहा, "मुझे पढ़ाई करनी है और कमाई भी करनी है, इसलिए मैंने दोनों को जारी रखा है।"  अशोक ने यह भी बताया कि कुछ डिलीवरी बॉय साइकिल पर डिलीवरी करते रहे हैं, लेकिन कुछ घंटे काफी हैं। जबकि मैं पूरे दिन यानी सुबह 11 बजे से रात 11-12 बजे तक साइकिल से डिलीवरी करती हूं।  मैं हर दिन 100-120 किलोमीटर साइकिल चलाता हूं और मुझे इससे एक समस्या है।  साइकिल का फायदा यह है कि अन्य डिलीवरी बॉय लंबी दूरी के ऑर्डर नहीं लेते हैं लेकिन अशोक अपने क्षेत्र में 12 से 15 किलोमीटर के लिए ऑर्डर स्वीकार करता है।  साइकिल पर डिलीवरी देखकर ग्राहक भी खुश हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें