भारत के अंतरिक्ष क्षेत्र के स्टार्टअप उड़ान भरने के लिए तैयार

प्रतिकात्मक तस्वीर

बेंगलुरू स्थित सिजगी स्पेस 30 सैटेलाईट का तारामंडल बनाने की बना रहा है योजना

चेन्नई, 12 दिसम्बर (आईएएनएस)| भारत के स्टार्टअप्स के लिए अंतरिक्ष अगली मंजिल है और प्रमुख औद्योगिक समूह इस मंजिल को पाने की कोशिश कर रहे हैं। पिछले साल भाजपा सरकार ने निजी क्षेत्र की कंपनियों के लिए इस क्षेत्र को खोलने की घोषणा की थी। अब कई स्टार्टअप ने इस नए क्षेत्र में प्रवेश किया है और उद्यम पूंजीपतियों से बड़े पैमाने पर फंड भी जुटाया है। दिलचस्प बात यह है कि यह केवल सिविलियन साइड नहीं है जिसे निजी कंपनियां देख रही हैं, वे रक्षा क्षेत्र की अंतरिक्ष जरूरतों को भी देख रही हैं।
उदाहरण के लिए, चेन्नई स्थित डेटा पैटर्न (इंडिया) लिमिटेड छोटे रक्षा सैटेलाइट बनाना चाहता है। अंतरिक्ष क्षेत्र की प्रवृत्ति छोटे उपग्रहों के होने की है। प्रवृत्ति उपग्रहों और उप-प्रणालियों की मांग को बढ़ा रही है। जबकि यूके सरकार के साथ भारत का भारती समूह वनवेब का मालिक है, यह एक लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) ब्रॉडबैंड उपग्रह संचार कंपनी है। कंपनी 650 उपग्रहों का एक समूह बनाने की योजना बना रही है, जो भारत में जन्मी कुछ उपग्रह कंपनियों की समान आकांक्षाएं हैं। सिजगी स्पेस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, अवैस अहमद ने कहा कि बेंगलुरू स्थित सिजगी स्पेस, फायरफ्लाई नामक एक 30 सैटेलाईट का तारामंडल बनाने की योजना बना रहा है।
सिजगी स्पेस का लगभग 15 किलो वजन का पहला सैटेलाइट चेन्नई की एक कंपनी द्वारा बनाया गया है और इसे इसरो के रॉकेट द्वारा लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में भेजा जाएगा। कंपनी अपना दूसरा सैटेलाइट अपनी बेंगलुरू फैसिलिटी में बना रही है। अहमद ने कहा कि कैमरे का फायरफ्लाई सैटेलाईट समूह विशेष रूप से उनकी कंपनी द्वारा डिजाइन किया गया है जो पहले कभी नहीं देखी गई। आईआईटी मद्रास इनक्यूबेटेड गैलेक्स आई स्पेस 15 पृथ्वी अवलोकन सैटेलाइट बनाने की योजना बना रहा है, जिनमें से सभी का वजन 150 किलोग्राम से कम नहीं होगा। गैलेक्सआई स्पेस के सह-संस्थापक और सीटीओ डेनिल चावड़ा ने आईएएनएस को बताया, "हम डिजाइन बनाने की प्रक्रिया के बीच में हैं। पहला सैटेलाइट 2023 की तीसरी तिमाही में तैयार होगा। सैटेलाइटों का हमारा समूह पांच साल की अवधि में तैयार हो जाएगा।"
छोटे सैटेलाइट के बाजार के रुझान के अनुरूप, रॉकेट निर्माता भी उपयुक्त रॉकेट बनाने की प्रक्रिया में हैं। जिन दो भारतीय रॉकेट स्टार्टअप ने अच्छी प्रगति की वे हैं चेन्नई स्थित अग्निकुल कॉसमॉस प्राइवेट लिमिटेड और हैदराबाद स्थित स्काईरूट एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड हैं। इसके अलावा कंपनियां अपने रॉकेट इंजन का परीक्षण कर रही हैं। अग्निकुल और स्काईरूट ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की विभिन्न सुविधाओं पर अपने रॉकेट सिस्टम का परीक्षण करने के लिए अंतरिक्ष विभाग के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।
अंतरिक्ष क्षेत्र में कई अन्य स्टार्टअप हैं जिनकी प्रगति के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। वैश्विक अंतरिक्ष बाजार लगभग 360 अरब डॉलर का है और 2040 तक इसके बढ़कर 1 ट्रिलियन डॉलर होने की उम्मीद है। हालांकि, वैश्विक पाई में भारत की हिस्सेदारी लगभग दो प्रतिशत है जो नए खिलाड़ियों के लिए अच्छी संभावनाएं पेश करती है। अब तक, भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र इसरो-देश की अंतरिक्ष एजेंसी का एकाधिकार रहा है और निजी भागीदारी पूर्व में घटक आपूर्ति के रूप में शामिल हैं। भारत ने अपना पहला संचार उपग्रह 1980 के दशक की शुरूआत में लॉन्च किया था। उद्योग के दो अधिकारियों ने आईएएनएस को बताया, घरेलू उद्योग कई गुना बढ़ गया होता अगर केवल सरकार ने निजी खिलाड़ियों को अनुमति दी होती और इसरो एक अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) इकाई के रूप में बना रहता।
उद्योग के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि भारतीय अंतरिक्ष उद्योग अभी अपनी प्रारंभिक अवस्था में है और स्टार्टअप इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। अंतरिक्ष क्षेत्र को खोलने के एक भाग के रूप में, भारत सरकार ने अंतरिक्ष विभाग (डीओएस) में एक स्वायत्त एजेंसी के रूप में भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (इन-स्पेस) का गठन किया है। इन-स्पेस अंतरिक्ष क्षेत्र में निजी कंपनियों के लिए नियामक होगा। यह उनके लिए इसरो की सुविधाओं का उपयोग करने में भी सक्षम होगा। भारत सरकार के अनुसार, 24 कंपनियों ने चालू वित्त वर्ष में अपनी अंतरिक्ष गतिविधियों के लिए इन-स्पेस से समर्थन का अनुरोध किया।
एस सोमनाथ, निदेशक, विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी), इसरो ने एक सेमिनार में कहा, "अंतरिक्ष क्षेत्र एक ट्रिलियन-डॉलर का उद्योग बनने की राह पर है और इस यात्रा में स्टार्टअप्स की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। स्टार्टअप्स को सफल होने के लिए उन्हें या तो मौजूदा तकनीक को फिर से खोजना होगा ताकि मौजूदा डोमेन में व्यवधान पैदा हो, नई प्रौद्योगिकियां उत्पन्न हों और इस क्षेत्र में विचार, या मौजूदा उत्पादों या परियोजनाओं को नए उपयोग में लाने के लिए नवीन विचारों का उपयोग करें।" अंतरिक्ष क्षेत्र में स्टार्टअप और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) को प्रोत्साहित करने पर के सिवन, अध्यक्ष, इसरो और अंतरिक्ष विभाग के सचिव ने कहा कि सरकार ने अंतरिक्ष उद्यम प्रोत्साहन और विकास (सीड) के माध्यम से कहा यह नवाचार को बढ़ावा देगा।
(Disclaimer: यह खबर सीधे समाचार एजेंसी की सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है। इसे लोकतेज टीम ने संपादित नहीं किया है।)

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें