स्वतंत्रता दिवस : धरती और समुन्द्र के बाद अब अंतरिक्ष में लहलहाया तिरंगा, अंतरिक्ष विज्ञान को बढ़ावा देने वाली संस्था किया ऐसा

स्पेस किड्स इंडिया ने धरती से 1,06,000 फीट की ऊंचाई पर तिरंगा फहराया

आज अपने देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर इस बार हमारे आन, बान और शान के तिरंगे की गूंज पूरी दुनिया में सुनाई दे रही है। चाहे वह धरती हो, आकाश हो या समुद्र। हर जगह तिरंगा फहराया गया है। पहली बार धरती से 30 किमी की ऊंचाई पर तिरंगा फहराया गया है। इस बार बच्चों के बीच अंतरिक्ष विज्ञान को बढ़ावा देने वाली संस्था स्पेस किड्स इंडिया ने धरती से 1,06,000 फीट की ऊंचाई पर तिरंगा फहराया। बिजनेस टुडे के मुताबिक आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में हर घर तिरंगा अभियान के तहत विशेष गुब्बारों की मदद से बच्चों को फहराया गया है। वहीं दूसरी ओर अंडमान निकोबार के गहरे समुद्र में भी तिरंगा फहराया गया है।
आपको बता दें कि स्पेस किड्स इंडिया की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, धरती के ऊपर झंडा फहराना इन सभी स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान और श्रद्धांजलि का प्रतीक है और उन लोगों पर गर्व है जो भारत के गौरव को बनाए रखने के लिए हर दिन कड़ी मेहनत कर रहे हैं। स्पेस किड्स इंडिया ने हाल ही में लो अर्थ के लिए एक सैटेलाइट लॉन्च किया है। दूसरी ओर, भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर अंतरिक्ष से संदेश भेजे गए हैं। अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में काम कर रही अंतरिक्ष यात्री सामंथा क्रिस्टोफोरेटी ने भारतीयों को शुभकामनाएं देते हुए एक वीडियो संदेश भेजा है।
इस बीच भारतीय मूल के अंतरिक्ष यात्री राजा चेरी ने भी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। नासा के अंतरिक्ष यात्री राजा चेरी 6 महीने के मिशन के बाद अब अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी में लौट आए हैं। उन्होंने कहा है कि नासा और इसरो के बीच सहयोग का लंबा इतिहास है। नासा का सहयोग, जो अंतरिक्ष युग के शुरुआती दिनों में शुरू हुआ था जब इसरो भारत में रॉकेट ध्वनि पर काम कर रहा था, आज भी जारी है। आज भी हम अंतरिक्ष और पृथ्वी विज्ञान मिशन पर एक साथ काम कर रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें