हिमाचल प्रदेश : आजाद भारत के पहले मतदाता का हुआ निधन

आजाद भारत के पहले मतदाता का हुआ निधन

निर्वाचन आयोग और बीजेपी-कांग्रेस ने दी श्रद्धांजलि

आजाद देश के पहले मतदाता मास्टर श्याम शरण नेगी का निधन हो गया है। उन्होंने गुरुवार देर रात हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के कल्पा स्थित अपने घर में अंतिम सांस ली। इससे पूरे देश में शोक व्याप्त हो गया है। भारत निर्वाचन आयोग ने भी नेगी के निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। 

निर्वाचन आयोग ने दी श्रद्धांजलि


आपको बता दें कि आजाद देश के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी 100 से अधिक वर्ष के हो चुके थे। निर्वाचन आयोग ने बताया कि नेगी ने बीते तीन नवंबर को राज्य विधानसभा चुनाव के लिए मतपत्र के जरिए अपना आखिरी वोट डाला था। निर्वाचन आयोग ने नेगी के निधन पर शोक जताया और कहा कि उन्हें लोकतंत्र में बहुत विश्वास था। आयोग के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘वह न केवल स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता थे बल्कि लोकतंत्र में अटूट विश्वास रखने वाले व्यक्ति थे। भारत निर्वाचन आयोग ने कहा कि हम राष्ट्र के प्रति उनकी सेवा के बहुत आभारी हैं। 

बीजेपी और कांग्रेस ने भी दी श्रद्धांजलि


वहीं भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने भी नेगी के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है। भाजपा ने कहा, ‘‘भाजपा स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता श्याम सरन नेगी के निधन पर गहरा दुख एवं संवेदनाएं व्यक्त करती है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दें।’’ कुछ दिन पहले नेगी के मतदान करने के बाद किन्नौर के उपायुक्त ने उन्हें उनके आवास पर सम्मानित किया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें