गुजरात : भरुच में सामाजिक सुरक्षा की चार योजनाओं के सौ फीसदी-13 हजार लाभार्थियों को कवर करने की अनूठी उपलब्धि

भरुच में सामाजिक सुरक्षा योजना कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भुपेन्द्र पटेल सहित अन्य मंत्री मौजूद रहे

राज्य सरकार ने कोने-कोने से लाभार्थियों को खोजकर उन सभी लोगों तक लाभ पहुँचाकर ‘घर बैठे गंगा आई’ कहावत को सार्थक करके दिखाया : मुख्यमंत्री भुपेन्द्र पटेल
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पदचिह्नों पर चलते हुए गुजरात में अंत्योदय फला-फूला है। गुजरात ने वंचित वर्गों को आत्मनिर्भर बनाने लोकहित तथा लोक कल्याणकारी योजना ओं में आम आदमी, गऱीब, वंचितों को ध्यान में रखते हुए सुशासन की दिशा को अधिक मज़बूत किया है। उन्होंने कहा कि छोटे से छोटे आदमी, कमज़ोर समान गंगा स्वरूपा बहनों, निराधारों, वंचितों को सामने से चलकर योजना का लाभ देने के लिए भरूच ने ‘उत्कर्ष पहल’ द्वारा देश का मार्गदर्शन किया है। श्री पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने लाल किले से राष्ट्र को संबोधन करते हुए सरकारी योजना का लाभ सुदूरवर्ती क्षेत्र के सभी लोगों तक पहुँचाने का आह्वान किया था। भरूच जि़ला प्रशासन ने इस आह्वान का स्वागत करते हुए जि़ले के कोने-कोने से लाभार्थियों को मात्र 3 महीने में भी खोजकर उन सभी लोगों तक लाभ पहुँचाकर ‘घर बैठे गंगा आई’ कहावत को सही अर्थ में सार्थक करके दिखाया है। 
उन्होंने यह भी कहा कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में सरकार ने सभी वर्ग के लोगों की चिंता की है। जन-धन से बैंक खाता, उज्ज्वला से गैस कनेक्शन देकर बहनों को धुएं से मुक्ति, उजाला द्वारा बिजली, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना द्वारा गऱीब वर्ग के लोगों को 5 लाख रूपए का केशलेस स्वास्थ्य सेवा, कोरोना के दौरान गऱीबों को नि:शुल्क अनाज तथा सभी को नि:शुल्क टीकाकरण, विधवा, निराधार तथा दिव्यांगों को योजनागत सहायता तथा लाभ देकर आत्मनिर्भर किया है। मुख्यमंत्री श्री पटेल ने कहा कि गंगा स्वरूपा महिलाओं को दी जाने वाली वित्तीय सहायता बढ़ाकर 1250 रुपए कर दिया गया है। इतना ही नहीं इस योजना में लाभार्थी का पुत्र 21 वर्ष होने पर उन्हें सहायता नहीं मिलती थी, किंतु इस बाधा को अब हटा दिया गया है। इसके परिणामस्वरूप लाभार्थियों की जो संख्या 3.70 लाख थी, वह बढक़र 11.36 लाख तक पहुँच गई है। अब तक इस योजना के अंतर्गत 1530.76 करोड़ रुपए की सहायता चुकाई जा चुकी है।
राज्य सरकार वृद्धों, दिव्यांगों का सहारा बनी है, जिसकी भूमिका बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 130 लाख वृद्धों तथा दिव्यांगों को 103 करोड़ रुपए पेंशन सहायता, प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 8.90 लाख परिवारों को ‘घर का घर’ दिया गया है। राज्य में 1.68 करोड़ से अधिक लोगों का जन-धन खाता खोला गया है, जिसमें 7400 करोड़ रुपए की बचत जमा हुई है। एक-एक नागरिक का पता लागकर सरकारी लाभ दिया जा रहा है। इस क्षेत्र में प्रधानमंत्री के दिशादर्शन में गुजरात में एक सर्वांगीण, इन्क्लूसिव इकोसिस्टम खड़ी हुई है। राज्य में गऱीब कल्याण मेलों के माध्यम से 1.47 करोड़ रुपए लाभार्थियों को हाथो हाथ 26,676 करोड़ रुपए की सहायता प्रदान की गई है।
राज्य सरकार ने मानवता का दृष्टिकोण दिखाते हुए जनकल्याण का कर्तव्य पूरी निष्ठा से निभाया है। प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ तथा सबका प्रयास के कार्यमंत्र को अपनाया है। यह बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी भी जो लोग सरकारी सेवा के लाभों से वंचित रह जा रहे हैं, ऐसे लोगों के लिए ‘उत्कर्ष योजना’ की पहल की गई है। श्री पटेल ने कहा प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया के विचार को मूर्तिमंत करने के लिए सरकार की कार्य पद्धति में तकनीकी का विनियोग करना आवश्यक है। भरूच जि़ला डिजिटल इंडिया के निर्माण की ओर आगे बढ़ते हुए ‘ई-समन्वय तथा विजि़टर्स मैनेजमेंट सिस्टम’ लोगों के लिए समर्पित कर रहा है, जो जन प्रतिनिधियों तथा नागरिकों की समस्या के निराकरण में अमृत अभिगम बनेगा। यह अभिगम अन्य लोगों के लिए प्रेरणादायी है। इस अवसर पर भरूच की दूध धारा डेयरी द्वारा मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के हाथों जि़ले के 5400 कुपोषित बच्चों को सुपोषित बनाने के लिए चना, मूंग तथ दूध का वितरण किया गया। 
प्रभारी मंत्री पूर्णेश मोदी ने कहा कि राज्य ‘प्रजा के सुख से सुखी तथा प्रजा के दु:ख से दु:खी’ होता है। इस सरकार द्वारा सुशासन की पहल की गई है। लोगों की आशा तथा अपेक्षा को पूर्ण करने का काम तत्कालीन मुख्यमंत्री तथा वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल द्वारा कई तरह की योजनाएँ लागू करके समाज के शोषितों, पीडितों, गऱीबों, वंचितों का जीवन सुशासन द्वारा अमृतमय बनाने की दिशा में कार्य किए जा रहे हैं।
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री प्रदीप पमार ने कहा कि आज देश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्त्व में सुदूरवर्ती लोगों की चिंता करते हुए अंत्योदय से सर्वोदय की ओर जा रहा है। उन्होंने कश्मीर से आर्टिकल 370 को खत्म कर सही मायने में देश को एकजुट किया है। रामजन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण कर लोक आस्था को सम्मानित किया है।
महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती मनीषाबेन वकील ने कहा कि ‘उत्कर्ष पहल’ के अंतर्गत केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा महिला उत्कर्ष योजनाएँ लाभार्थियों के घर तक पहुँचाकर प्रशासन द्वारा सराहनीय प्रयत्न किया गया है। सरकार द्वारा योजनाएँ तो बनाई जाती है, किन्तु उसका लाभ लाभार्थी तक पहुँचे यह बहुत ही आवश्यक है। यह कार्य भरूच में किया गया है।
उप मुख्य दंडक दुष्यंत पटेल ने कहा कि जि़ला प्रशासन द्वारा ‘उत्कर्ष पहल’ के अंतर्गत 13 हज़ार लाभार्थियों को लाभ देने का भगीरथ कार्य किया गया है। जो सराहनीय है। वर्तमान सरकार सुदूरवर्ती लोगों की सही मायनों में चिंता करने वाली सरकार है। कोरोना महामारी में भी केंद्र तथा राज्य सरकार ने गऱीबों को नि:शुल्क अनाज वितरण करने के साथ लोगों को मुफ्ट में टीका भी लगाया है।
भरूच के सांसद  मनसुख वसावा ने कहा कि राज्य सरकार गुजरात की प्रजा के हित में लगातार कार्य कर रही है। भरूच जि़ले को केंद्र तथा राज्य सरकार की बहुविद् योजनाओं का भी लाभ मिल रहा है, जिसके परिणामस्वरूप भरूच जि़ले का सर्वांगीण विकास हो रहा है। ‘उत्कर्ष पहल’ योजना में भरूच जि़ले के लाभार्थियों को शामिल करने के लिए भरूच जि़ला प्रशासन को बधाई दी।
प्रारंभ में कलेक्टर  तुषार सुमेरा ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि समाज उत्कर्ष के यज्ञ में गऱीबों के उत्कर्ष से ‘अंत्योदय द्वारा सर्वोदय’ की भावना को भरूच जि़ले ने सार्थक किया है। इस असवर पर सांसद सी. आर. पाटिल, जि़ला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती अल्पाबेन पटेल, विधायकगण ईश्वरसिंह पटेल, अरूणसिंह रणा, मुख्य सचिव पंकज कुमार, पदाधिकारीगण, अधिकारीगण तथा बड़ी संख्या में लाभार्थी सहित लोग उपस्थित थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें