गुजरात : अनमोल और अद्भुत है गुजरात की साहित्यिक विरासतः मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल

दीपोत्सवी अंक विक्रम संवत 2077 का मुख्यमंत्री ने किया लोकार्पण

गुजरात दीपोत्सवी अंक-2077 का मुख्यमंत्री ने किया लोकार्पण

सूचना विभाग की ओर से प्रकाशित गुजरात दीपोत्सवी अंक विक्रम संवत 2077 को लोकार्पित करते हुए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि गुजरात की साहित्यिक विरासत अनमोल और अद्भुत है। गुजरात का जज्बा और ताकत दीपोत्सवी अंक के माध्यम से उजागर होता है। उन्होंने कहा कि लब्धप्रतिष्ठित गुजराती साहित्यकारों के चुनिंदा लेखों से सजा गुजरात दीपोत्सवी अंक पाठकों के लिए हर साल यादगार बन जाता है। 
मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव के. कैलाशनाथन ने कहा कि गुजरात दीपोत्सवी अंक गुजराती पाठकों में बेहद लोकप्रिय प्रकाशन है। मुख्यमंत्री की सचिव सुश्री अवंतिका सिंह ने गुजरात दीपोत्सवी अंक के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी। 
सूचना निदेशक डी.पी. देसाई ने गुजरात दीपोत्सवी अंक की जानकारी देते हुए कहा कि लब्धप्रतिष्ठित चिंतकों की कलम से 31 अभ्यास लेख, 32 उपन्यास, 19 व्यंग्य रचनाएं, 10 नाटक और 99 काव्य रचनाओं से सुसज्जित दीपोत्सवी अंक दिवाली के त्योहारों में पाठकों के लिए उत्तम पठनीय सामग्री से भरपूर साबित होगा। उन्होंने कहा कि गुजरात के प्रसिद्ध चित्रकारों और छायाकारों के चित्रों एवं तस्वीरों से गुजरात दीपोत्सवी अंक नयनरम्य और आकर्षक बना है। इस अवसर पर अतिरिक्त सूचना निदेशक सर्वश्री अरविंदभाई पटेल और पुलकभाई त्रिवेदी उपस्थित थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें