गुजरात : मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित ‘नारायणी नमोस्तुते’ कार्यक्रम में सीएम ने 18 महिलाओं को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य की 18 महिलाओं को आमंत्रित कर ‘नारायणी नमोस्तुते’ कार्यक्रम के अंतर्गत सम्मानित किया

समाज के प्रत्येक क्षेत्र में अपना योगदान दे रही हैं महिलाएं, शक्ति का स्वरूप और प्रतीक भी है नारीः भूपेंद्र पटेल

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने गुरुवार को गांधीनगर स्थित अपने निवास स्थान पर विभिन्न क्षेत्रों में सफलता के शिखर पर पहुंचने वाली राज्य की 18 महिलाओं को आमंत्रित कर ‘नारायणी नमोस्तुते’ कार्यक्रम के अंतर्गत सम्मानित किया। आद्यशक्ति की आराधना के पर्व नवरात्रि के नौवें दिन मुख्यमंत्री निवास स्थान का प्रांगण नारी शक्ति के सम्मान का आंगन बना। मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल ने कार्यक्रम में कहा कि भारतीय संस्कृति ‘नारी तू नारायणी’ में विश्वास रखती है। नारी शक्ति का स्वरूप और प्रतीक भी है। 
मुख्यमंत्री ने नवरात्रि में शक्ति के स्वरूप को वंदन कर विभिन्न क्षेत्रों में नारी शक्ति के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि जिन घरों में स्त्रियों का सम्मान किया जाता है, वहां लक्ष्मी जी निवास करती हैं। आज प्रत्येक क्षेत्र में महिलाएं अपना योगदान दे रही हैं। यदि महिलाओं को योग्य अवसर मिले तो वे सभी क्षेत्रों में सफलता के सर्वोच्च शिखर तक पहुंच सकती हैं। मुख्यमंत्री ने सामाजिक बंधनों से मुक्त होकर महिलाओं से आगे बढ़ने का आह्वान किया। उन्होंने हर समस्या का निडर बनकर सामना करने का भी अनुरोध किया। 
उन्होंने विश्वास जताया कि यदि महिलाएं जागृत होंगी तो उनके प्रति सामाजिक दृष्टिकोण में निश्चित रूप से बदलाव आएगा। महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रोत्साहन देने के लिए महिला उत्कर्ष की योजनाओं के माध्यम से राज्य सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए उन्होंने कहा कि ऐसी योजनाओं का लाभ हासिल करने में राज्य सरकार उन्हें पूर्ण सहयोग देगी। मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ीं 18 महिलाओं के साथ संवाद किया और उनकी जीवन यात्रा एवं कार्यों से अवगत भी हुए। 
मुख्यमंत्री ने ‘नारायणी नमोस्तुते’ कार्यक्रम के अंतर्गत जिन 18 महिलाओं का सम्मान किया उसमें टोक्यो पैरा ओलंपिक खेलों में टेबल टेनिस में रजत पदक जीतने वाली भाविना पटेल, गुजरात की प्रथम एवं देश की चौथी महिला स्काई डाइवर श्वेता परमार, मात्र 19 वर्ष की छोटी उम्र में कमर्शियल पायलट बनने वाली मैत्री पटेल, कच्छी महिला उद्यमी पाबीबेन रबारी, मेंगो जंक्शन स्वीट शॉप की संस्थापक और महिला उद्यमी डॉ. धरा कापड़िया, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी परिसर में महिला स्वयं सहायता समूह की प्रमुख प्रेमिलाबेन तड़वी, घुमंतू एवं विमुक्त जाति के उत्कर्ष के लिए सामाजिक कार्यकर्ता मित्तल पटेल, कोरोना महामारी के दौरान जान गंवाने वाले मरीजों का अंतिम संस्कार करने वाली हिनाबेन वेलाणी, कोरोना काल में ट्रक चलाकर गांवों में मास्क और सैनिटाइजर का वितरण करने वाली दुरैया तपिया, दिव्यांग सामाजिक कार्यकर्ता शोभना सपन शाह, सामाजिक कार्यकर्ता रसीलाबेन पंड्या, आरजे और यू-ट्यूबर अदिती रावल, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में रेडियो जॉकी डॉ. नीलम तड़वी, संगीत कलाकार स्तुति काराणी, भरतनाट्यम कलाकार मानसी पी. काराणी, लेखिका व एंकर पार्मीबेन देसाई, प्रगतिशील किसान भारतीबेन रामदेव खूंटी तथा राज्यस्तरीय श्रेष्ठ पुशुपालक पुरस्कार से सम्मानित देमाबेन चौधरी शामिल हैं। इस अवसर पर कला गुरु  चंदन ठाकोर द्वारा संचालित अहमदाबाद की प्रसिद्ध नृत्य भारती संस्था के कलाकारों ने महिषासुरमर्दिनी स्त्रोत पर भरतनाट्यम नृत्य की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री श्रीमती मनीषाबेन वकील, आदिजाति विकास राज्य मंत्री श्रीमती निमिषाबेन सुथार, मुख्यमंत्री की सचिव श्रीमती अवंतिका सिंह, भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष दिपीकाबेन सरवड़ा आदि उपस्थित थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें