पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी हुये टीएमसी में शामिल

(Photo Credit : IANS)

पार्टी के प्राथमिक सदस्य के तौर पर शामिल हुये अभिजीत,

कोलकाता, 5 जुलाई (आईएएनएस)| कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका देते हुए भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी सोमवार दोपहर तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। मुर्शिदाबाद के जंगीपुर से दो बार के सांसद और बीरभूम के नानहाटी से एक बार विधायक रहे मुखर्जी ने कहा कि वह पार्टी की इच्छा के अनुसार काम करेंगे। मुखर्जी ने तृणमूल के दो दिग्गजों पार्थ चटर्जी और सुदीप बंद्योपाध्याय से पार्टी का झंडा ग्रहण करते हुए कहा, "साल 2011 में मैंने सरकारी नौकरी छोड़ दी और राजनीति में शामिल हो गया, क्योंकि मैं लोगों के लिए काम करना चाहता था। हालांकि मैंने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा, लेकिन ममता बनर्जी की वाम मोर्चे के खिलाफ लड़ाई के कारण मैं आसानी से जीत सका था।"
उन्होंने कहा, "अब जब पूरे देश में भाजपा की आक्रामकता महसूस की जाती है, तो केवल ममता बनर्जी ही थीं जो उनके खिलाफ लड़ सकती थीं और उन्हें अकेले ही हरा सकती थीं। मेरा मानना है कि वह देश की एकमात्र नेता हैं जो भाजपा की सभी आक्रामकता का जवाब दे सकती हैं। मैं मुझे गर्व है कि उन्होंने मुझे पार्टी में शामिल होने की अनुमति दी है।"
पार्टी में शामिल होने के समय के बारे में पूछे जाने पर नलहाटी के पूर्व विधायक ने कहा, "अगर मैं चुनाव से पहले शामिल होता, तो सभी कहते कि मैं विधायक बनना चाहता हूं। मैं तृणमूल कांग्रेस का हिस्सा बनना चाहता था। मैं किसी भी पद के लिए पार्टी में शामिल नहीं हुआ हूं। मैं पार्टी के प्राथमिक सदस्य के रूप में शामिल हुआ हूं और मैं काम करूंगा, क्योंकि पार्टी मुझे काम चाहती है।"
तृणमूल के महासचिव पार्थ चटर्जी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, "अभिजीत मुखर्जी एक राजनीतिक परिवार से आते हैं और उनके पिता प्रणब मुखर्जी न केवल हमारे गुरु थे बल्कि वह दुनिया भर के सबसे सम्मानित राजनेताओं में से एक थे। उन्होंने हमेशा अपनी मदद से हमारी मदद की थी। बहुमूल्य सुझाव और सलाह। अब तृणमूल कांग्रेस अभिजीत मुखर्जी के उस अनुभव का उपयोग करना चाहती है और समृद्ध होना चाहती है।"
मुखर्जी के कांग्रेस छोड़ने के बारे में पूछे जाने पर, राज्य कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, "वह एक बड़े राजनेता हैं और प्रणब मुखर्जी के बेटे हैं। मुझे उनके बारे में कुछ नहीं कहना है। उन्होंने कांग्रेस क्यों छोड़ी, आपको उनसे पूछना चाहिए, मुझसे नहीं। उन्होंने कांग्रेस के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। मगर उन्होंने मुझसे कभी कोई बात नहीं की, इसलिए मैं यह नहीं बता सकता कि उन्होंने कांग्रेस क्यों छोड़ी।"
(Disclaimer: यह खबर सीधे समाचार एजेंसी की सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है। इसे लोकतेज टीम ने संपादित नहीं किया है।)


इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें