शर्मनाक: भरूच के श्मशान से चोरी हुए भट्टी के पार्ट्स

(Photo Credit : youtube.com)

पहले से ही श्मशान के हालात गंभीर, घटना से इलाके में हडकंप

कोरोना की दूसरी लहर के कारण देश भर में स्थिति बहुत गंभीर बनी हुई है। एक ओर संक्रमित मामलों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ रही हैं, अस्पतालों में मरीजों को बेड नहीं मिल रहे हैं वहीं दूसरी ओर अधिकांश राज्यों में ऑक्सीजन की भारी कमी देखी जा रही हैं। कोरोना मरीज ऑक्सीजन की कमी के कारण मर रहे हैं। वर्तमान में राज्य में पिछले दो दिनों में लगभग 13,000 सकारात्मक मामले सामने आए हैं। राज्य सरकार द्वारा भी सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं और वर्तमान में गंभीर रोगियों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। जिन रोगियों में लक्षण नहीं होते हैं और उन्हें ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसे मरीजों का इलाज घर पर ही किया जा रहा है। तो दूसरी तरफ अस्पताल में बिस्तर खाली नहीं है इसलिए मरीज को बिस्तर खाली होने का इंतजार करना पद रहा है।

ऐसे में अस्पताल के बाहर एंबुलेंस की लंबी कतारें लग रहती हैं। राज्य में सूरत, वड़ोदरा, अहमदाबाद और राजकोट जैसे शहरों में लोगों को दाह संस्कार के लिए श्मशान में भी घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। दूसरी ओर, इस महामारी के बीच में बंद श्मशान घरों को भी शुरू किया गया है। कुछ स्थानों पर एक बार में 8 से 10 शवों को जलाने की व्यवस्था की गई है। ऐसी परिस्थिति के बीच भरूच के नेत्रंग श्मशान से एक अजीब घटना सामने आई है जहां चोर शमशान में लगे दो फायरप्लेस से प्लेटें और लोहे की सरिया चुराकर भाग गए। जिसके चलते नेत्रंग की महिला सरपंच ने वन विभाग से नए फायरप्लेस की मांग की है। इससे पहले भरुच ए डिवीजन में नेत्रंग के वालिया तालुका में 15 से 20 गांवों में फायरप्लेस की मांग की गई है और ये याचिकाएं अभी भी लंबित हैं। ऐसे में श्मशान में चोरी की घटना से इलाके में हडकंप मच गया है। इस संबंध में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।
गौरतलब है कि एक ओर श्मशान में 24 घंटों चिता जल रहे हैं जिससे कुछ शमशान में चिमनियों के लोहे भी पिघलने लगे है।ऐसे में इस मामले को लेकर हडकंप मचा हुआ है। एक तरफ समाज के कुछ अच्छे लोग जरूरतमंद लोगों की हरसंभव मदद कर रहे हैं तो दूसरी ओर, कुछ लोग कोरोना महामारी के बीच भी चोरी और ब्लैकमेल जैसे अपराध करने से नहीं बाज आ रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें