क्रिकेट : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरा टी20 आज भारतीय गेंदबाजों से बहुत उम्मीदें, करो या मरो की स्थिति में है भारत

पहले टी20 मुकाबले में 200 रन बनाने के बाद भी हारा भारत, गेंदबाजी सबसे बड़ी चिंता, बुमराह का खेलना अनिश्चित

पहले मैच में 200 से अधिक के स्कोर का बचाव करने में नाकाम रहने के बाद भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज को बचाए रखने के लिए आज होने वाले दूसरे मैच में अपनी कमजोरियों खास कर लचर गेंदबाजी पर काबू पाना होगा और किसी भी कीमत पर जीत हासिल करनी होगी।

बुमराह की फिटनेस पर सवाल


भारतीय टीम प्रबंधन अभी भी इस बात को लेकर असमंजस में है कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को खिलाएं या नहीं। बुमराह ने इंग्लैंड दौरे के बाद से कोई मैच नहीं खेला है। वह पीठ की समस्या के कारण एशिया कप में भी नहीं खेले थे। उन्हें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला के लिए टीम में शामिल किया गया है, लेकिन चूंकि उन्हें पहले मैच के लिए प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया था, इसलिए उनकी फिटनेस को लेकर अनिश्चितता है। ऐसे में भारत अपने तेज आक्रमण को लेकर चिंतित है और इसमें हरफनमौला हार्दिक पांड्या भी शामिल हैं। उन्होंने आखिरी 14 ओवरों में 150 रन दिए हैं। स्विंग गेंदबाज भुवनेश्वर भी डेथ ओवरों में फ्लॉप रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान, श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 19वां ओवर फेंका और इन तीन ओवरों में 49 रन दिए। ऐसे में बुमराह की फिटनेस और बुमराह का टीम में होना भारत के लिए काफी अहम है।
 

सामने आई भारतीय गेंदबाजों की कमजोरियां


ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप से पहले भारत के पास अभ्यास के रूप में पांच मैच हैं और इन मैचों में कोच द्रविड़ और कप्तान रोहित को टीम की कमजोरियों को दूर करना होगा। शीर्ष तीन बल्लेबाज एशिया कप से पहले भारत के लिए एक बड़ी समस्या थे और अब गेंदबाजी चिंता का विषय बन गई है क्योंकि भारतीय गेंदबाजों की कमजोरियां उन परिस्थितियों में सामने आ गई हैं जो बल्लेबाजों के पक्ष में हैं। यहां तक ​​कि लीड स्पिनर चहल भी पहले की तरह घातक नहीं रहे हैं। पिछले कुछ मैचों में चहल सबसे ज्यादा बेअसर दिखाई दिए। उन्हें स्पिनरों के अनुकूल पिचों पर विकेट लेने के लिए अन्य विकल्प तलाशने होंगे।


आक्रामक बल्लेबाजी से भारत को फायदा


पिछले मैच में भारत की फील्डिंग उच्च स्तर की नहीं थी। भारत को आक्रामक बल्लेबाजी का फायदा मिल रहा है। राहुल, हार्दिक और सूर्यकुमार ने पिछले मैच में बल्लेबाजी करते हुए भारत का स्कोर 200 से अधिक तक पहुंचा दिया। शीर्ष क्रम के दो सीनियर बल्लेबाजों के कप्तान रोहित शर्मा और विराट कोहली को विश्व कप अभियान को मजबूत करने के लिए बड़ी पारियां खेलनी होंगी। टीम में मैच फिनिशर की भूमिका निभाने वाले दिनेश कार्तिक को पिछले कुछ मैचों में ज्यादा बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला है और उन्हें विश्व कप के अपने विकल्प खुले रखने के लिए दूसरे मैच में शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी के लिए भेजे जाने की संभावना है।

ऑस्ट्रेलिया सभी विभागों में मजबूत


वर्तमान टी20 विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया की बात करें तो ये टीम खेल के सभी पहलुओं में मजबूत दिखाई दे रही है। हालांकि टीम में डेविड वॉर्नर, मिशेल स्टार्क जैसे मैच विनर नहीं थे, लेकिन कैमरन ग्रीन ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई। सीनियर खिलाड़ी स्टीव स्मिथ और ऑस्ट्रेलियाई डेब्यू करने वाले टिम डेविड ने बल्लेबाजी को मजबूत किया है। मैथ्यू वेड फिनिशर के रूप में खेले। हालांकि ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को अधिक अनुशासित गेंदबाजी करने की जरूरत है। मोहाली में तेज गेंदबाज कमिंस, हेजलवुड और ग्रीन महंगे साबित हुए। कोहरे को देखते हुए टॉस जीतने वाली टीम रनचेज चलाने का फैसला करेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें