बाल दिवस विशेष : गूगल ने कोलकाता के छात्र श्लोक मुखर्जी की पेंटिंग को बनाया अपना खास डूडल

गूगल द्वारा इस साल की आर्टवर्क प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था

आज देश भर 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया गया. इस दिन देशभर में पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन होता है. चाचा नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। बाल दिवस के मौके पर पर सर्च इंजन गूगल ने भी खास डूडल बनाया है। जिसमें कोलकाता के छात्र श्लोक मुखर्जी द्वारा बनाई गई एक पेंटिंग का गूगल डूडल विजेता घोषित किया गया है।

गूगल ने कराया था आर्टवर्क प्रतियोगिता


आपको बता दें कि गूगल द्वारा इस साल की आर्टवर्क प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। जिसमें भारत के 100 शहरों के कक्षा 1 से 10 तक के बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में 115,000 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुईं। प्रतियोगिता का विषय "अगले 25 वर्षों में मेरा भारत कैसा होगा" था। बाल दिवस के मौके पर आज श्लोक मुखर्जी को इस प्रतियोगिता का विजेता घोषित किया गया है.

ये अर्थ रखता हैं श्लोक का डूडल


अपनी पेंटिंग के बारे में श्लोक मुखर्जी का कहना है कि अगले 25 सालों में वैज्ञानिक भारत में मानवता की बेहतरी के लिए इको-फ्रेंडली रोबोट बनाएंगे. भारत पृथ्वी से अंतरिक्ष की कई यात्राएं करेगा। भारत योग और आयुर्वेद के क्षेत्र में और आगे बढ़ेगा और आने वाले वर्षों में और मजबूत होगा। प्रतियोगिता में 20 फाइनलिस्ट चुने गए, जिनमें से विजेता के चयन के लिए ऑनलाइन वोटिंग कराई गई। राष्ट्रीय विजेताओं के अलावा 4 समूहों ने भी अपनी पेंटिंग से सभी को प्रभावित किया। इसके लिए करीब 52,000 लोगों ने वोट किया। गूगल ने डूडल के साथ विजेता से जुड़ी सारी जानकारी साझा की है, जो डूडल पर क्लिक करने पर दिखाई दे रही है।

'अगले 25 सालों में भारत' की उपविजेता तस्वीर क्या दर्शाती है?


विशाखापत्तनम के कंकला श्रीनिकाना ग्रुप ने 'जॉयफुल लर्निंग' पर एक खूबसूरत पेंटिंग बनाई। जिसमें बच्चों को गूगल पर पढ़ते, खेलते, ड्राइंग करते हुए दिखाया गया। वहीं गुरुग्राम की रहने वाली दिल्ली पब्लिक स्कूल की दिव्यांशी सिंघल की एक ग्रुप पेंटिंग का कोई जवाब नहीं है. 'द सॉल्यूशन टू नेचुरल डिजास्टर' शीर्षक वाली पेंटिंग में दिखाया गया है कि भारत अगले 25 वर्षों में प्राकृतिक आपदाओं से कैसे निपटेगा। बच्चों की इस पेंटिंग को देखकर आप भी दंग रह जाएंगे।

देश के विकास के लिए मिट्टी और पेड़ों का संरक्षण बहुत जरूरी है


रांची के पिहू कच्छप के समूह ने दिखाया कि देश के विकास के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में हरित ऊर्जा लाना कितना महत्वपूर्ण है। 'ग्रीन एनर्जी इज क्लीन एनर्जी' थीम पर बच्चों के इस डूडल से पता चला कि पर्यावरण के लिए पौधारोपण बेहद जरूरी है। साथ ही चौथे समूह यानी श्री वैद्यनिकेतन स्कूल, विशाखापत्तनम के कक्षा 9-10 के बच्चों ने दिखाया कि हमारे देश में 70 प्रतिशत जीवन कृषि पर निर्भर है, इसलिए हमें मिट्टी को बचाने का प्रयास करना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें